शपथ के बाद बोले केजरीवाल- मैं सबका मुख्यमंत्र, दिल्ली के दो करोड़ लोग मेरा परिवार

शपथ के बाद बोले केजरीवाल- मैं सबका मुख्यमंत्र, दिल्ली के दो करोड़ लोग मेरा परिवार

नई दिल्ली : आम आदमी पार्टी (आप) के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली के रामलीला मैदान में रविवार को मुख्यमंत्री के रूप में पद एवं गोपनीयता की शपथ ली। उनके साथ आप के छह विधायकों को भी मंत्री पद की शपथ दिलायी गयी।

शपथ लेने के बाद केजरीवाल ने उपस्थित लोगों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि आज आप के बेटे ने तीसरी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ली है। यह मेरी जीत नहीं है, यह दिल्ली वालों की जीत है।

हमारी कोशिश है कि दिल्लीवासियों के जीवन में बदलाव आ सके। अगले पांच साल विकास के लिए काम किया जाएगा, आज से मैं सबका मुख्यमंत्री हूं।

मैं भाजपा, आप और कांग्रेस, सभी का मुख्यमंत्री हूं। उन्होंने कहा कि मैंन किसी के साथ सौतेला व्यवहार नहीं किया है, सभी के लिए काम किया। आने वाले पांच साल भी दिल्ली के विकास के लिए काम किया जाएगा।

दिल्ली के दो करोड़ लोग मेरा परिवार हैं। बिना हिचकिचाए मेरे पास आना सबका काम करूंगा। केजरीवाल ने कहा कि मैं अकेले काम नहीं कर सकता, सब मिलकर काम करेंगे।

केजरीवाल ने कहा कि चुनाव के दौरान हमारे विरोधियों ने जो कुछ भी कहा, उन सबको माफ करता हूं। उनसे निवेदन करता हूं कि सब कुछ भूल जाओ। सभी के साथ मिलकर, केंद्र के साथ मिलकर काम करूंगा। मैंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी आमंत्रित किया था।

केजरीवाल ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि कुछ लोग कहते हैं कि मैं सब कुछ फ्री करता जा रहा हूं। दोस्तों, इस दुनिया के अंदर जो भी अनमोल चीजें हैं। भगवान ने फ्री बनाई हैं। मां जब अपने बच्चों को प्यार करती है तो वह फ्री होता है।

बाप जब अपने बच्चों को पालने के लिए रोटी नहीं खाता तो बाप की तपस्या फ्री होती है। श्रवण कुमार जब अपने माता-पिता को लेकर तीर्थयात्रा पर गए थे और जब उनकी मौत हो गई थी। श्रवण कुमार की सेवा भी फ्री थी।

केजरीवाल अपने दिल्ली वालों को प्यार करता है, दिल्ली वाले अपने केजरीवाल को प्यार करते हैं। यह प्यार भी फ्री है। इसकी कोई कीमत नहीं है। मैं क्या अपने सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों से फीस लेना शुरू कर दूं?

लानत है ऐसे मुख्यमंत्री पर। मैं अपने अस्पतालों में इलाज कराने वाले लोगों से दवाइयों के पैसे लेने शुरू कर दूं, लानत है ऐसे मुख्यमंत्री पर। मैं दिल्ली आने वाले मरीजों से ऑपरेशन के पैसे लेने शुरू कर दूं, लानत है मेरी जिंदगी पर।

केजरीवाल ने कहा कि मैंने शपथ ग्रहण समारोह के लिए प्रधानमंत्री मोदी को आमंत्रण भेजा था। वह नहीं आ सके, शायद वह किसी अन्य कार्यक्रम में व्यस्त हैं। मैं दिल्ली को विकसित करने और इसे आगे बढ़ाने के लिए प्रधानमंत्री और केंद्र सरकार से आशीर्वाद लेना चाहता हूं।

केजरीवाल ने कहा कि दोस्तों मेरा एक सपना है। जो मैं चाहता हूं पूरे देशवासियों का सपना हो। हम चाहते हैं एक वक्त ऐसा आए जब पूरी दुनिया के अदंर भारत का डंका बजे। लंदन, टोक्यो, ऑस्ट्रेलिया और अफ्रीका में भी भारत का डंका बजेगा।

इसके लिए नई राजनीति की शुरुआत होनी चाहिए, जो दिल्ली के लोगों ने अपना लिया है। इसके बाद केजरीवाल ने प्रसिद्ध गीत हम होंगे कामयाब की कुछ पंक्तियां दोहरायीं। उन्होंने मंच से कविता भी पढ़ी...

  • जब भारत मां का हर बच्चा, अच्छी शिक्षा पाएगा
  • जब भारत के हर बंदे को, अच्छा इलाज मिल पाएगा
  • जब सुरक्षा और सम्मान, महिलाओं में आत्म सम्मान जगाएगा
  • जब किसान का पसीना उसके, घर में भी खुशहाली लाएगा
  • जब हर भारत वासी, जीवन की मूलभूत सुविधा पाएगा
  • जब धर्म जाति से उठकर, हर भारतवासी भारत को आगे बढ़ाएगा
  • तब ही अमर तिरंगा, आसमान में शान से लहराएगा।

ख़बरें दबाव में हमेशा आपके हितों से समझौता करती रहेंगी। हमारी पत्रकारिता को हर तरह के दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

HELP US

news aroma