राशन कार्ड के लिए आवेदन करने वालों को कल से 421 स्कूलों में बांटा जाएगा राशन: केजरीवाल

राशन कार्ड के लिए आवेदन करने वालों को कल से 421 स्कूलों में बांटा जाएगा राशन: केजरीवाल

नई दिल्ली : दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हम दिल्ली में किसी को भूखा नहीं सोने देंगे। दिल्ली सरकार 71 लाख कार्ड धारकों को राशन देने के बाद अब जिनके पास राशन कार्ड नहीं है, ऐसे 10 लाख लोगों को कल (7 अप्रैल) से 421 स्कूलों में 5-5 किलो मुफ्त राशन बांटना शुरू करेगी।

वितरण स्थल पर विधायक, सांसद, काउंसलर आदि सामाजिक दूरी का लोगों से पालन कराना सुनिश्चित करेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली में भी अब साउथ कोरिया की तर्ज पर अधिक से अधिक लोगों की जांच हो सकेगी।

हमने 1 लाख टेस्टिंग किट्स के ऑर्डर दे दिए हैं, जो शुक्रवार तक मिल जाएगी। जिसके बाद 500 से 1 हजार लोगों की प्रतिदिन जांच हो सकेगी।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्र सरकार का धन्यवाद करते हुए कहा कि केंद्र सरकार ने मांगने पर 27 हजार पीपीई किट आवंटित कर दिया है, जो एक-दो दिन में मिल जाएगी और इसके बाद हमारे डॉक्टर सुरक्षित रह सकेंगे।

मुख्यमंत्री श्री केजरीवाल ने डिजिटल प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि कल दिल्ली में 503 केस थे और पिछले 24 घंटे में 523 केस हो गए हैं। दिल्ली में पिछले 24 घंटें में 20 नए कोरोना के केस सामने आए हैं।

इन 20 में से 10 केस मरकज के हैं और बाकी अन्य केस हैं। कुल 523 केस में से मकरज के 330 केस हैं। विदेशों से कोरोना लेकर आने वालों की संख्या 61 है। अब तक दिल्ली में 7 लोगों की मौत हो चुकी है।

पिछले 24 घंटे में दिल्ली में एक व्यक्ति की मौत हो चुकी है। 25 लोग आइसीयू में हैं और 8 लोग वेंटिलेटर पर है। शेष लोगों की स्थिति अभी स्थिर है।

पिछले कुछ दिनों में ऐसा लगा कि दिल्ली में केस बड़ी तेजी से केस बढ़े हैं। मैं पिछले दिनों कहा था कि मकरज के केस काफी तेजी से बढ़े हैं। 523 में से 330 केस सिर्फ मरकज के हैं।

हम ज्यादा से ज्यादा लोगों की जांच कराना चाहते हैं, ताकि कोरोना के मरीजों को चिंहित इलाज कर सकें

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अब हमें टेस्टिंग किट मिल रही हैं। हमने जांच अब काफी बढ़ा दी है। हम चाहते हैं कि जो भी टेस्ट कराना चाहता है, उसकी जांच हो।

ताकि कोरोना के मरीजों को चिंहित किया जा सके और उनका इलाज किया जा सके। उनकी जांच कर उन्हें क्वारेंटाइन या आइसोलेट किया जा सके, ताकि वे आगे यह बीमारी न फैलायें।

जितनी ज्यादा हम जांच करेंगे, उतनी तेजी से ही हम कोरोना को रोकने में कामयाब होंगे। दूसरे देशों में भी यही तकनीक अपनाई जा रही है। साउथ कोरिया अभी तक सबसे ज्यादा सफल माना जाता है। वहां पर भी यही तकनीक अपना कर ज्यादा से ज्यादा जांच की गई थी। हम अब दिल्ली के अंदर भी यही करने वाले हैं।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अगर हम अपने आंकड़े को देखें तो 25 अप्रैल के आसपास हम प्रतिदिन 100 से 125 लोगों की जांच कर रहे थे।

उसके बाद एक अप्रैल के बाद से हम 500 के करीब प्रतिदिन जांच कर रहे हैं और अब हम 500 से 1 हजार लोगों की जांच प्रतिदिन कर सकेंगे और इसे आने वाले समय में बढ़ाते जाएंगे।

दिल्ली सरकार ने 1 लाख टेस्टिंग किट के ऑर्डर दे दिए हैं। शुक्रवार तक एक लाख टेस्टिंग किट आ जाएंगी और हम बहुत बड़े स्तर पर जांच करने में समक्ष हो जाएंगे।

बिना राशन कार्ड वालों को मंगलवार से मिलेगा राशन, लॉकडाउन सफल बनाने के लिए सामाजिक दूरी का करें पालन मुख्यमंत्री श्री केजरीवाल ने कहा कि पिछले दिन हम लोगों ने 6 लाख 90 हजार लोगों को लंच कराया था और 6 लाख 94 हजार लोगों को डिनर कराया था।

मेरी यह भरोसा है कि हम दिल्ली के अंदर एक भी आदमी को भूखे नहीं सोने देंगे। दिल्ली सरकार के अलावा भी समाज के बहुत सारे लोग अलग-अलग स्थान पर खाने के पैकेट बांट रहे हैं।

अपने स्तर पर लोगों को खाना खिला रहे हैं, उन सभी लोगों को सलाम करता हूं। इस वक्त सारा समाज मिल कर इस विपदा से लड़ रहा है।

मुख्यमंत्री श्री केजरीवाल ने कहा कि 71 लाख लोग कार्ड धारक हैं, उन सभी लोगों को 7.5 किलो राशन मुफ्त दे रहे हैं। लेकिन ऐसे बहुत सारे लोग हैं, जिनके पास राशन कार्ड नहीं है। वे लोग भी बहुत गरीब हैं।

उनको भी अभी खाने की दिक्कत हो रही है। उन लोगों को भी कल (7 अप्रैल) से राशन मिलना शुरू हो जाएगा। 7 अप्रैल को 421 स्कूलों पर उन्हें राशन बंटना शुरू हो जाएगा।

हमने 10 लाख लोगों को 5-5 किलो राशन दिया जाएगा। प्रत्येक व्यक्ति को 4 किलो गेहूं और एक किलो चावल मुफ्त दिया जाएगा। हमने सबके लिए राशन का इंतजाम कर लिया है।

अभी 10 लाख लोगों के लिए इंतजाम किया है, लेकिन अगर जरूरत पड़ेगी, तो हम और भी केंद्र सरकार से और राशन ले लेंगे। इस मामले में हमें केंद्र सरकार से पूरा सहयोग मिल रहा है।

सभी विधायक, सांसद, काउंसलर आदि लोग भी यह सुनिश्चित करेंगे कि वितरण स्थल पर भीड़ नहीं लगनी चाहिए। यदि भीड़ लग गई तो लॉकडाउन का सारा असर खत्म हो जाएगा। सामाजिक दूरी का पालन करना होगा।

किसी को राशन लेने के लिए होड़ मचाने की जरूरत नहीं है। एक दिन में आप थोड़े-थोड़े लोग आइए, ताकि सभी को आसानी से राशन मिल जाए। राशन का वितरण तब तक किया जाएगा, तब तक एक-एक व्यक्ति को नहीं मिल जाता है।

राशन खत्म हो भी गया, तो केंद्र सरकार से और राशन ले लेंगे, लेकिन आपको राशन जरूरत देंगे। आप राशन लेने के दौरान भीड़ मत लगाइएगा।

केंद्र सरकार ने 27 हजार पीपीई किट आवंटित किया

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मैं पिछले कई दिनों से कह रहा था कि हमारे पास पीपीई किट्स की कमी है। केंद्र सरकार की हमारे पास एक चिट्ठी आई है।

जिसमें उन्होंने कहा है कि केंद्र ने दिल्ली के लिए 27 हजार पीपीई किट्स आवंटित किया है। इसके लिए हम केंद्र सरकार का शुक्रिया करते हैं। हमें उम्मीद है कि कल या परसों तक पीपीई किट्स मिल जाएगी। यह हमारे डाॅक्टरों की सुरक्षा के लिए एक महत्वपूर्ण कदम होगा।

केंद्र सरकार, दिल्ली सरकार और दिल्ली के सभी लोग मिल कर कोरोना से लड़ रहे हैं। मैं उम्मीद करता हूं कि हम इस लड़ाई को जरूरत जीत लेंगे।


ख़बरें दबाव में हमेशा आपके हितों से समझौता करती रहेंगी। हमारी पत्रकारिता को हर तरह के दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

HELP US

news aroma