Global Statistics

All countries
100,351,416
Confirmed
Updated on January 26, 2021 4:37 pm
All countries
72,184,880
Recovered
Updated on January 26, 2021 4:37 pm
All countries
2,151,569
Deaths
Updated on January 26, 2021 4:37 pm

किसान आंदोलन का 49वां दिन, लोहड़ी पर आज जलाएंगे नये कानून की प्रतियां

नई दिल्ली: केंद्र सरकार द्वारा पिछले साल लागू तीन कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग पर अड़े किसानों का आंदोलन बुधवार को 49वें दिन जारी है।

आंदोलनकारी किसान लोहड़ी पर्व पर आज (बुधवार) नये कानूनों की प्रतियां जलाकर अपना विरोध जताएंगे।

किसान संगठनों के नेताओं ने आंदोलन तेज करने को लेकर पूर्व घोषित सभी कार्यक्रमों को जारी रखने का फैसला लिया है।

भारतीय किसान यूनियन (लाखोवाल) के जनरल सेक्रेटरी हरिंदर सिंह ने आईएएनएस से कहा पंजाब, हरियाणा समेत देश के अन्य प्रांतों में भी लोहड़ी पर्व पर किसान तीनों कृषि कानूनों की प्रतियां जलाकर अपना विरोध जताएंगे।

नये कृषि कानूनों पर किसानों की आपत्तियों और उनके समाधान के लिए सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित कमेटी के मसले पर पूछे गए सवाल पर हरिंदर सिंह ने कहा, किसान तीनों कानूनों को निरस्त करने की मांग कर रहे हैं, इसलिए किसी कमेटी में जाने की बात उनको मंजूर नहीं है।

उन्होंने कहा कि सरकार ने भी कमेटी बनाकर फैसला करने का सुझाव दिया था जिसे सभी किसान संगठनों ने एकमत से खारिज कर दिया था।

आंदोलनकारी किसान देश की राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर पिछले साल 26 नवंबर 2020 से डेरा डाले हुए हैं और सिंघु बॉर्डर मुख्य प्रदर्शन स्थल है जहां आज लोहड़ी पर्व पर तीनों कृषि कानूनों की प्रतियां जलाने का विशेष कार्यक्रम होगा।

यहां भी पढ़ें : -  राष्ट्रपति ने नेताजी की पेंटिंग का अनावरण किया, किसी अभिनेता का नहीं

सिंघु बॉर्डर पर मौजूद पंजाब के किसान नेता और भाकियू के जनरल सेक्रेटरी पाल माजरा ने आईएएनएस को बताया कि दिन के करीब 12 बजे यहां किसान संगठनों की बैठक होगी जिसमें तीनों कानूनों की प्रतियां जलाने के कार्यक्रम का समय तय होगा।

किसान यूनियनों के नेता केंद्र सरकार द्वारा लागू कृषक उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) कानून 2020, कृषक (सशक्तीकरण एवं संरक्षण) कीमत आश्वासन और कृषि सेवा करार कानून 2020 और आवश्यक वस्तु (संशोधन) कानून 2020 को वापस लेने और न्यूनतम समर्थन मूल्य पर फसलों की खरीद की कानूनी गारंटी देने की मांग कर रहे हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने नये कृषि कानूनों और किसानों के आंदोलन को लेकर दायर विभिन्न याचिकाओं पर सुनवाई के बाद मंगलवार को इन कानूनों के अमल पर रोक लगाने का फैसला लिया और किसानों की समस्याओं का समाधान तलाशने के लिए विशेषज्ञों की एक कमेटी का गठन कर दिया जिसमें चार सदस्य हैं।

यहां भी पढ़ें : -  वोट देने के अपने बहुमूल्य अधिकार का हमेशा सम्मान करें : कोविंद

हालांकि सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद संयुक्त किसान मोर्चा ने आंदोलन में शामिल किसान संगठनों की तरफ से एक बयान में कहा कि शीर्ष अदालत द्वारा गठित कमेटी में शामिल सभी चारों सदस्य नए कृषि कानून के पैरोकार हैं।

मोर्चा की तरफ से जारी बयान में किसान नेता डॉ. दर्शनपाल ने कहा कि हमें संतोष है कि सुप्रीम कोर्ट ने किसानों के लोकतांत्रिक और शांतिपूर्वक विरोध करने के अधिकार को मान्यता दी है।

यहां भी पढ़ें : -  पीएम से मिले अल्ताफ बुखारी, जम्मू-कश्मीर राज्य बहाल करने की मांग दोहराई

बयान में कहा गया कि संयुक्त किसान मोर्चा तीनों किसान विरोधी कानूनों के कार्यान्वयन पर रोक लगाने के सुप्रीम कोर्ट के आदेश का स्वागत करता है क्योंकि यह आदेश उनकी इस मान्यता को पुष्ट करता है कि यह तीनों कानून असंवैधानिक हैं।

उन्होंने कहा, लेकिन यह स्थगन आदेश अस्थाई है जिसे कभी भी पलटा जा सकता है।

हमारा आंदोलन इन तीन कानूनों के स्थगन नहीं इन्हें रद्द करने के लिए चलाया जा रहा है।

इसलिए केवल इस स्टे के आधार पर हम अपने कार्यक्रम में कोई बदलाव नहीं कर सकते।

उन्होंने आगे कहा, हम सुप्रीम कोर्ट का सम्मान करते हैं लेकिन हमने इस मामले में मध्यस्थता के लिए सुप्रीम कोर्ट से प्रार्थना नहीं की है और ऐसी किसी कमेटी से हमारा कोई संबंध नहीं है।

चाहे यह कमेटी कोर्ट को तकनीकी राय देने के लिए बनी हो या फिर किसानों और सरकार में मध्यस्थता के लिए, किसानों का इस कमेटी से कोई लेना देना नहीं है।

कोर्ट ने जो चार सदस्य कमेटी घोषित की है उसके सभी सदस्य इन तीनों कानूनों के पैरोकार रहे हैं और पिछले कई महीनों से खुलकर इन कानूनों के पक्ष में माहौल बनाने की असफल कोशिश करते रहे हैं।

Breaking News

अमेरिका व यूरोपीय संघ के बीच की दरार को पाटना आसान नहीं होगा

बीजिंग: अमेरिका के नए विदेश मंत्री एंटोनी ब्लिनकेन ने हाल ही में बताया कि अमेरिकी सरकार नार्ड स्ट्रीम 2 पाइपलाइन के निर्माण को रोकने...

पीएम से मिले अल्ताफ बुखारी, जम्मू-कश्मीर राज्य बहाल करने की मांग दोहराई

जम्मू: अपनी पार्टी के अध्यक्ष अलताफ बुखारी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात कर जम्मू-कश्मीर राज्य बहाल करने की मांग दोहराई है। यह जानकारी...

रक्षामंत्री राजनाथ ने फिल्म फौजी कॉलिंग का ट्रेलर लॉन्च किया

नई दिल्ली: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सोमवार को नई दिल्ली स्थित अपने आवास पर फिल्म फौजी कॉलिंग का ट्रेलर लॉन्च किया। इस अवसर पर...

राजस्थान में हरी जैकेट पहने ट्रैफिक स्वयंसेवक किसान बताएंगे रास्ता

जयपुर: राजस्थान के किसान 26 जनवरी को नए कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध जताने कि लिए दिल्ली में प्रस्तावित ट्रैक्टर रैली के दौरान अनुशासन...

Related Articles

राजस्थान में हरी जैकेट पहने ट्रैफिक स्वयंसेवक किसान बताएंगे रास्ता

जयपुर: राजस्थान के किसान 26 जनवरी को नए कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध जताने कि लिए दिल्ली में प्रस्तावित ट्रैक्टर रैली के दौरान अनुशासन...

राज्यपाल ने मोरहाबादी मैदान में किया झंडोत्तोलन

रांची: झारखंड की राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने 72वें गणतंत्र दिवस के मौके पर मंगलवार को मोरहाबादी मैदान में झंडोत्तोलन किया। डीजीपी, गृह सचिव और मुख्यसचिव...

गोरखपुर की रामगढ़ झील में कश्मीर के शिकारा का मजा

गोरखपुर: यूपी के गोरखपुर के रामगढ़ झील में कश्मीर की डल झील में चलने वाले शिकारा का मजा लिया जा रहा है। जीडीए की निगरानी...

राष्ट्रपति ने नेताजी की पेंटिंग का अनावरण किया, किसी अभिनेता का नहीं

नई दिल्ली: राष्ट्रपति भवन ने सोमवार को सोशल मीडिया में तैर रहे उन अफवाहों का खंडन किया, जिसमें कहा गया है कि राष्ट्रपति राम...

दशहरे पर रिलीज होगी फिल्म आरआरआर

मुंबई: इंतजार की घड़ी खत्म हो गयी है। बहुप्रतीक्षित पैन-इंडिया मल्टीस्टारर फिल्म आरआरआर दशहरा के अवसर पर 13 अक्टूबर, 2021 को दुनिया भर में...

लोग पार्टी कर सकते हैं, लेकिन थिएटर में नहीं जा सकते, क्यों ? : शरद केलकर

मुंबई: अभिनेता शरद केलकर इस बात से वाकई में बेहद हैरान हैं कि लोग सिनेमाघरों में जाने से अभी भी कतरा रहे हैं, जबकि...

लालू की रिहाई के लिए तेजप्रताप, रोहिणी ने लिखा आजादी पत्र

पटना: बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अध्यक्ष लालू प्रसाद की रिहाई के लिए सोशल मीडिया पर राजद के नेता...

आजमगढ़ में अखिलेश का बनेगा पार्टी कार्यालय

आजमगढ़ (उत्तर प्रदेश): समाजवादी पार्टी ने आजमगढ़ में अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के लिए कार्यालय स्थापित करने के लिए 4,374 वर्ग मीटर का...

कुरैशी की बाइडेन प्रशासन से अपील, बदले हुए पाकिस्तान व भारत से जुड़ें

इस्लामाबाद: पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने राष्ट्रपति जो बाइडेन के नेतृत्व वाले नए अमेरिकी प्रशासन से बदले हुए चार वर्षो में...