23 C
Ranchi
Tuesday, March 2, 2021
Home खबर राजस्थान में हरी जैकेट पहने ट्रैफिक स्वयंसेवक किसान बताएंगे रास्ता

राजस्थान में हरी जैकेट पहने ट्रैफिक स्वयंसेवक किसान बताएंगे रास्ता

जयपुर: राजस्थान के किसान 26 जनवरी को नए कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध जताने कि लिए दिल्ली में प्रस्तावित ट्रैक्टर रैली के दौरान अनुशासन बनाए रखने की पूरी कोशिश कर रहे हैं।

ट्रैक्टर रैली के संबंध में सोमवार को विस्तृत दिशानिर्देश भी जारी कर दिए गए हैं और किसानों के लिए रैली निकालने के लिए विशिष्ट मार्ग भी निर्धारित कर दिए गए हैं।

किसानों को ट्रैक्टर रैली के दौरान इन दिशानिर्देशों का पालन करना होगा।

किसानों को पुलिस और हरे रंग की जैकेट पहने यातायात स्वयंसेवकों के निर्देशों का पालन करना होगा।

इसके अलावा किसानों को तिरंगे के साथ एक किसान झंडा ले जाने को कहा गया है, लेकिन रैली के दौरान किसी भी राजनीतिक पार्टी के झंडे को अनुमति नहीं दी जाएगी।

ट्रैक्टर रैली के लिए राजस्थान में संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से कुछ दिशानिर्देश जारी किए गए हैं। दिशानिर्देशों में कहा गया है कि सभी किसानों को निर्देशों का पालन करना होगा।

हरे रंग की जैकेट पहने ट्रैफिक स्वयंसेवकों के निर्देशों को मानना होगा।

किसानों को सलाह दी गई है कि वे अपने साथ पर्याप्त राशन और पानी लेकर चलें, ताकि लगभग 24 घंटे खुद को बनाए रखा जा सके। इसके अलावा कहा गया है कि उन्हें ठंड के मौसम में ट्रैफिक जाम में फंसने की स्थिति में खुद को ठंड से बचाने की व्यवस्था करनी चाहिए।

सलाह दी गई है कि किसी भी किसान को किसी भी प्रकार का हथियार, लाठी आदि नहीं ले जाना चाहिए। इसके अलावा किसी भी उत्तेजक या नकारात्मक नारों के साथ कोई बैनर नहीं होना चाहिए।

परेड में ट्रैक्टर और अन्य वाहनों को अनुमति दी जाएगी, लेकिन ट्रालियां नहीं जाएंगी। हालांकि, विशेष झांकी के साथ ट्रॉलियों को छूट दी जा सकती है।

परेड का रूट तय कर लिया गया है। इसके विशेष मार्कर होंगे। पुलिस और यातायात स्वयंसेवक उनका मार्गदर्शन करेंगे। मार्ग से हटकर दूसरे रास्ते पर जाने की कोशिश करने वाले किसी भी वाहन के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

संयुक्त किसान मोर्चा ने एक विज्ञप्ति में कहा, हम इतिहास बनाने जा रहे हैं।

हमने पहले कभी भी इस तरह की परेड नहीं की है, लेकिन इस बार हमें इस परेड के माध्यम से देश और दुनिया को अपना दर्द दिखाना होगा और उन्हें तीन किसान विरोधी कानूनों के बारे में सच्चाई बतानी होगी।

संयुक्त किसान मोर्चा ने यह भी कहा है कि इस ऐतिहासिक परेड में किसी भी तरह की हिंसा नहीं होनी चाहिए।

किसानों को हिदायत देते हुए मोर्चा ने कहा, हमारी परेड शांति से पूरी होनी चाहिए। याद रखें, हम दिल्ली जीतने नहीं जा रहे हैं, बल्कि हम देश के लोगों का दिल जीतने जा रहे हैं।

संयुक्त किसान मोर्चा के प्रवक्ता संजय माधव ने कहा, हम राजस्थान से दिल्ली पहुंचने के लिए न्यूनतम 1,000 ट्रैक्टरों की उम्मीद कर रहे हैं, हालांकि यह संख्या 5,000 के आंकड़े को भी छू सकती है। हम अपनी सूची को अपडेट कर रहे हैं और सोमवार रात तक संख्याओं को अंतिम रूप दे देंगे।

लेकिन इस समय तक 1,000 की पुष्टि हो चुकी है।