22 C
Ranchi
Thursday, May 6, 2021
- Advertisement -

झारखंड विधानसभा में मंत्रियों और विधायकों ने किया प्रदर्शन

- Advertisement -

रांची : झारखंड विधानसभा में सत्तारूढ़ यूपीए विधायकों ने पेट्रोल-डीजल-गैस के दामों में बढ़ोत्तरी के खिलाफ सोमवार को विधानभवन के बाहर प्रदर्शन किया।

दूसरी तरफ भाजपा विधायकों ने नियोजन नीति और युवाओं को रोजगार के मसले पर विधानसभा के बाहर मुख्य द्वार पर प्रदर्शन कर विरोध दर्ज कराया।

पेट्रोल-डीजल-गैस के दामों में बढ़ोत्तरी के खिलाफ सत्तारूढ़ झारखंड मुक्ति मोर्चा, कांग्रेस और राष्ट्रीय जनता दल विधायकों के अलावा सरकार में शामिल मंत्री आलमगीर आलम, रामेश्वर उरांव और सत्यानंद भोक्ता ने भी विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लिया।

मौके पर कांग्रेस विधायक दीपिका पांडेय सिंह ने बताया कि पिछले दस दिनों से पेट्रोल,डीजल-रसोई गैस के दामों में लगातार वृद्धि हो रही है, केंद्र सरकार को ग़रीबों की परेशानी से कोई मतलब नहीं है।

केंद्र सरकार ग़रीबों का खून चूसकर अपना जेब भरना चाहती है। इस मौके पर कृषि मंत्री बादल पत्रलेख ने कहा कि केंद्र सरकार ने जनता पर मंहगाई का बोझ बढ़ाने के लिए हर दिन पेट्रोल और डीजल की कीमतों में वृद्धि कर रही है।

इसका मध्यमवर्गीय परिवारों के लोगों को इसका खामियाजा भुगतना पड़ रहा है। श्रम मंत्री सत्यानंद भोक्ता ने कहा कि गैस की वृद्धि के कारण महिलाओं के रसोईघर में प्रभाव पड़ा है।

पेट्रोल, डीजल और गैस की वृद्धि के कारण हर वर्ग पर इसका प्रभाव पड़ रहा है। मंत्री मिथिलेश ठाकुर ने कहा कि केंद्र सरकार के कारण महंगाई दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है।

मोदी सरकार को जनता ने चुनकर सत्ता पर बैठाया है लेकिन केंद्र सरकार तानाशाह रवैया अपना रही है। जनता के ऊपर महंगाई का अतिरिक्त बोझ डाल रही है।

विधायक राजेश कच्छप ने कहा कि इन तमाम मुद्दों को लेकर आज विधानसभा के बाहर केंद्र की भाजपा सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया गया।

इधर, भाजपा विधायकों ने भी विधानसभा की कार्यवाही शुरू होने के पहले रोजगार स्थानीय नीति और पत्थलगड़ी मुद्दों पर सदन के बाहर प्रदर्शन किया।

विधानसभा के बाहर विपक्षी दलों की तरफ से तख्ती लेकर राज्य सरकार की नीतियों का विरोध कर रहे थे।

विपक्षी दलों ने कहा कि सदन के अंदर भी रोजगार स्थानीय नियोजन नीति और पत्थलगड़ी मुद्दों को लेकर आवाज बुलंद किया जाएगा।

विधायक रणधीर सिंह ने कहा कि रघुवर सरकार ने जिस तरीके से चतुर्थवर्गीय को रोजगार देने का काम किया था, जिसे मौजूदा हेमंत सरकार ने ठंडे बस्ते में डालने का काम किया है।

इन तमाम मुद्दों को लेकर राज्य सरकार का विरोध किया जा रहा है, ताकि यहां के स्थानीय लोगों को रोजगार मिल सके।

विधायक भानूप्रताप शाही ने कहा कि पत्थलगड़ी करवाने में समर्थन करने वाली सरकार है। यही कारण है कि शहर के बीचों-बीच पत्थलगड़ी कर दी जाती है।

राज्य सरकार की नीतियों के कारण यहां की जनता दिग्भ्रमित हो रही है। यही कारण है कि युवा और स्थानीय रोजगार को लेकर अपनी मांग बुलंद कर रहे हैं।

विपक्ष की जिम्मेदारी होती है कि सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ प्रदर्शन करें। इसी को लेकर सोमवार को विपक्षी दलों की तरफ से सदन के बाहर प्रदर्शन किया गया।

- Advertisement -

Latest news

- Advertisement -

Related news

- Advertisement -spot_img