35 C
Ranchi
Sunday, April 18, 2021
- Advertisement -

RMC Ranchi : नगर आयुक्त के इस बरताव से भड़कीं मेयर, दी हाई कोर्ट जाने की चेतावनी

- Advertisement -

रांची : रांची नगर निगम में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है। जिस नगर निगम पर शहर की साफ-सफाई की जिम्मेदारी है, खुद उसके ही अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों के मन एक-दूसरे के लिए साफ नहीं दिखाई पड़ रहे हैं।

मेयर आशा लकड़ा और नगर आयुक्त मुकेश कुमार के बीच की खटपट बुधवार को एक बार फिर सामने आयी।

नौबत यहां तक आ गयी कि मेयर ने नगर आयुक्त के खिलाफ हाई कोर्ट जाने तक की चेतावनी दे डाली।

इसलिए भड़कीं मेयर आशा लकड़ा

दरअसल, शहर में साफ-सफाई, सैनिटाइजेशन और फॉगिंग की तैयारी को लेकर मेयर आशा लकड़ा ने बुधवार को बैठक बुलायी थी।

मेयर ने अपनी की अध्यक्षता में होनेवाली इस बैठक में नगर आयुक्त मुकेश कुमार समेत निगम के अन्य अधिकारियों को शामिल होने का निर्देश दे रखा था।

ये भी पढ़ें : -  रिम्स सहित कई अस्पतालों में हुई ऑक्सीजन की सप्लाई

लेकिन, इस बैठक में न तो नगर आयुक्त मुकेश कुमार ने शिरकत की और न ही निगम के किसी भी अन्य अधिकारी ने इसमें शामिल होने की जहमत उठायी।

ये भी पढ़ें : -  कोडरमा सांसद अन्नपूर्णा देवी हुई कोरोना पॉजिटिव

बताया जा रहा है कि मेयर अपने कार्यालय कक्ष में बुधवार को दोपहर दो बजे से होनेवाली बैठक में निगम के अधिकारियों का इंतजार करती रहीं, लेकिन न तो नगर आयुक्त पहुंचे और न ही अन्य अधिकारी। इससे मेयर काफी नाराज दिखीं।

राज्य सरकार के इशारे पर काम कर रहे हैं नगर आयुक्त : मेयर

मेयर आशा लकड़ा ने कहा कि नगर आयुक्त राज्य सरकार के इशारे पर कार्य कर रहे हैं। उनके आचरण और व्यवहार से स्पष्ट है कि वे रांची नगर निगम में सिर्फ और सिर्फ अपनी मनमानी करना चाहते हैं।

ये भी पढ़ें : -  Jharkhand Lockdown : झारखंड में 15 दिन का लगेगा लॉकडाउन

यदि उन्हें बैठक नहीं करानी है, तो लिखित जवाब दें कि किस कारण बुधवार को बुलायी गयी बैठक में वह या उनके अधीनस्थ अधिकारी नहीं आये।

दो दिनों के अंदर बैठक नहीं हुई, तो हाई कोर्ट में दर्ज करायी जायेगी याचिका

आशा लकड़ा ने नगर आयुक्त को अंतिम चेतावनी देते हुए कहा कि आपदा की स्थिति में रांची नगर की साफ-सफाई की तैयारी को लेकर दो दिनों के अंदर बैठक नहीं करायी गयी, तो हाई कोर्ट में याचिका दायर की जायेगी।

ये भी पढ़ें : -  Jharkhand Lockdown : झारखंड में 15 दिन का लगेगा लॉकडाउन

क्योंकि, शहर की 15 लाख आबादी का प्रतिनिधित्व करना उनकी जिम्मेदारी है। साथ ही जनता की समस्याओं का समाधान करना उनका कर्तव्य है।

- Advertisement -

Latest news

- Advertisement -

Related news

- Advertisement -spot_img