30 C
Ranchi
Friday, April 16, 2021
- Advertisement -

झारखंड : मालगाड़ी के 22 बोगी बेपटरी ; बिहार, बंगाल और झारखंड के संथाल में हो सकती है बिजली की किल्लत

- Advertisement -

न्यूज़ अरोमा गोड्डा: राजमहल परियोजना से एनटीपीसी फरक्का की ओर जा रही कोयला लदी मालागड़ी की 22 बोगियां जिले के सीमावर्ती बोआरीजोर के पास बेपटरी हो गईं।

इससे राजमहल परियोजना से शुरू हुए कोयले की आपूर्ति ठप हो गई है।

जानकारी के अनुसार एमजीआर रेलखंड पर पथरा के पास तकरीबन 22 बोगी पटरी से उतर जाने से ललमटिया एवं फरक्का के बीच कोयले का संप्रेषण फिर से रुक गया।

इस प्रकार गत दिनों वन विभाग द्वारा लगाए गए ट्रांजिट शुल्क के कारण 3 दिनों तक बंद हुए डिस्पैच एक बार फिर से शुरू होने के बाद भी राजमहल परियोजना की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही है।

बिहार, बंगाल एवं झारखंड के संथाल में हो सकती है बिजली की किल्लत

एनटीपीसी फरक्का को कोयले की आपूर्ति बंद होने से जहां राजमहल परियोजना को कोयले का स्टॉक खपाने की समस्या बढ़ गई है वही संभावित 8 दिनों तक कोयला डिस्पैच बंद होने से विद्युत संकट उत्पन्न होने का खतरा भी सामने आ गया है।

ज्ञात हो कि एनटीपीसी कहलगांव में पूर्व से ही 5 में से 4 इकाइयां पूरी तरह ठप होने से विद्युत उत्पादन रुका हुआ है।

गत 2 माह से कहलगांव को महज एक यूनिट से ही विद्युत का उत्पादन किया जा रहा है।

ज्यादा दिनों तक कोयले का स्टॉक नहीं रहने के कारण एनटीपीसी फरक्का समुचित मात्रा में विद्युत उत्पादन करने की स्थिति में नहीं है।

एनटीपीसी फरक्का के फ्यूल मैनेजमेंट के महाप्रबंधक गौतम जेना ने बताया की रेल लाइन को दुरुस्त करने का काम जल्द ही शुरू कर दिया जाएगा।

- Advertisement -

Latest news

- Advertisement -

Related news

- Advertisement -spot_img