रामगढ़ थाना परिसर में अब हाई फैसिलिटी के साथ पुलिस मेस का होगा संचालन, सभी को एक रेट में मिलेगा भोजन

बुधवार को एसपी प्रभात कुमार ने पीवीयूएनएल के सीईओ प्रेम प्रकाश के साथ पुलिस मेस का उद्घाटन किया

रामगढ़: रामगढ़ पुलिस विभाग की बुनियादी सुविधाओं में लगातार इजाफा हो रहा है। हाईटेक गाड़ियां और हाईटेक बाइक के साथ पहले ही रामगढ़ पुलिस बहुत बेहतर कार्य कर रही थी।

अब रामगढ़ थाना परिसर में हाई फैसिलिटी के साथ पुलिस मेस का संचालन होगा।

बुधवार को एसपी प्रभात कुमार ने पीवीयूएनएल के सीईओ प्रेम प्रकाश के साथ पुलिस मेस का उद्घाटन किया। इस दौरान रामगढ़ एसपी ने कहा कि यहां प्रतिदिन सुबह-शाम 100 लोगों के भोजन का प्रबंध होगा।

पुलिस पदाधिकारियों, जवानों के साथ-साथ थाना परिसर में आने वाले आगंतुकों को भी पुलिस मेस में चाय- नाश्ता और भोजन की व्यवस्था मिलेगी।

इसी वर्ष जुलाई महीने में कोविड के दौरान सीएसआर फंड के साथ पीवीयूएनएल ने पुलिस प्रशासन को सुविधा देने की बात कही थी। जुलाई में भूमि पूजन हुआ तो पुलिस मेस का निर्माण कार्य भी बड़ी तेज गति से हुआ।

रामगढ़ एसपी प्रभात कुमार ने कहा कि अक्सर ऐसा होता है कि कोई अधिकारी जब किसी सपने को देखता है, तो उसके साकार होने तक उसका तबादला हो जाता है।

मैं बहुत सौभाग्यशाली हूं कि जिस पुलिस मेस के संचालन की व्यवस्था मैंने करने का मन बनाया था, आज मेरे ही हाथों से उसका उद्घाटन हुआ है।

यह पुलिस मेस रामगढ़ थाना, महिला थाना, एससी एसटी थाना और पुलिस लाइन में पदस्थापित पदाधिकारियों और जवानों के लिए एक वरदान की तरह है।

इसके पहले पौस्टिक आहार और भोजन के लिए पुलिस जवानों को काफी मुसीबत झेलनी पड़ती थी। खाद्य पदार्थों को स्टोर करने और उनके बनाने के लिए उचित प्रबंध नहीं होने की वजह से पुलिस पदाधिकारियों को भी विषम परिस्थिति में काफी दिक्कत होती थी।

कोविड के दौरान जब आम नागरिकों और जरूरतमंदों के बीच भोजन का वितरण किया जाने लगा, तो उस वक्त भी कई स्थान पर टेंट लगाने पड़े। लेकिन अब रामगढ़ पुलिस के पास एक बेहतर किचन और बैठने की व्यवस्था है।

सभी को एक दाम में मिलेगा भोजन

रामगढ़ एसपी प्रभात कुमार ने बताया कि पुलिस मेस का भोजन पुलिस पदाधिकारी हो, जवान हो या आम नागरिक, सब लोगों को एक मूल्य पर ही उपलब्ध होगा।

रामगढ़ थाने में कई बार लोग काफी समय तक रुक जाते हैं। वैसी परिस्थिति में उनके चाय नाश्ते के लिए कोई व्यवस्था नहीं होती है।

उन्हें थाने का काम निपटाना होता है तो भोजन करने के लिए बाहर किसी होटल में मोटी रकम चुकानी पड़ती है। पुलिस मेस में उन्हें न्यूनतम दाम पर भोजन उपलब्ध होगा।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button