झारखंड : बकाया वेतन के भुगतान की मांग को लेकर हड़ताल कर रहे HEC कर्मियों ने लिया यह फैसला

बकाया वेतन भुगतान को लेकर एचईसी कर्मी दो दिसंबर से टूल डाउन स्ट्राइक कर रहे हैं

रांची: हेवी इंजीनियरिंग कॉरपोरेशन (HEC) लिमिटेड में कर्मचारी अपने लंबित वेतन के भुगतान की मांग को लेकर इन दिनों हड़ताल पर हैं।

इस कारण एचईसी में काम प्रभावित हो रहा है। वहीं, एचईसीएस एंड ई एसोसिएशन (HECS&E Association) की बुधवार को हुई बैठक की अध्यक्षता रंजन नायक ने की।

रंजन नायक ने बताया कि बैठक में एचईसी में मौजूदा हालात पर गंभीर चिंता व्यक्त करते हुए कुछ बिंदुओं पर सहमति बनी है।

उन्होंने बताया कि एसोसिएशन की बैठक के दौरान एचईसी के तीनों निदेशकों के साथ तत्काल बैठक कर स्थिति को स्पष्ट करने को लेकर वार्ता, सीएमडी को फौरन एचईसी आकर स्थिति पर स्पष्टीकरण देने,

प्रबंधन द्वारा रोडमैप तैयार कर एचईसी चलाने की आगे की योजना स्पष्ट करने, सैलरी पर प्रबंधन का रुख एवं राज्य के मुख्यमंत्री और राज्यपाल से मिलकर उनके द्वारा हस्तक्षेप करने के लिए आग्रह करने की सहमति बनी।

उल्लेखनीय है कि बकाया वेतन भुगतान को लेकर एचईसी कर्मी दो दिसंबर से टूल डाउन स्ट्राइक कर रहे हैं। दो दिसंबर की सुबह आठ बजे एचईसी के तीनों प्लांट एचएमबीपी, एफएफपी और एचएमटीपी में कर्मियों ने उत्पादन ठप कर दिया था, जो आज भी जारी है।

इधर हड़ताल के बाद एचईसी प्रबंधन द्वारा तीन दिसंबर को एक अपील पत्र जारी किया गया था, जिसमें कर्मियों से काम पर लौटने को कहा गया था।

लेकिन, इसके साथ ही कहा गया था कि यदि कर्मचारी काम पर नहीं लौटे, तो उन पर नो वर्क नो पे का सिद्धांत लागू होगा।

इससे कर्मचारियों का आक्रोश और बढ़ गया है। कर्मचारियों का समर्थन करते हुए अधिकारी भी सोमवार से हड़ताल में शामिल हो गये।

इधर, मंगलवार को एचईसी प्रबंधन के पदाधिकारियों ने श्रम आयुक्त कार्यालय में आयोजित श्रमिक संगठनों के साथ ही बैठक में कर्मियों को 31 दिसंबर तक जून माह के बकाया वेतन का भुगतान करने की बात कही है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button