झारखंड में मिला ब्लैक फंगस का एक और मरीज

रांची: झारखंड में बुधवार को ब्लैक फंगस का एक और मरीज मिला है।  राज्य में ब्लैक फंगस के कुल मरीजों की संख्या 137 हो गई है।

नमें 83 मरीजों में ब्लैक फंगस के लक्षण पाए गए हैं जबकि 54 मरीज संदिग्ध है।

स्वास्थ्य विभाग के नोडल पदाधिकारी सिद्धार्थ त्रिपाठी ने बुधवार को प्रेसवार्ता में बताया कि राज्य में ब्लैक फंगस के अब तक 26 मरीजों की मौत हो चुकी है जबकि 54 मरीज ठीक होकर अस्पताल से डिस्चार्ज हो चुके हैं।

उन्होंने बताया कि 22 जून को राज्य में 1,30,310 सैम्पल की जाँच की गई, जिसमें 1,30,200 मामले निगेटिव पाए गए तथा 110 मामले पाॅजिटिव पाए गए।

साथ ही 180 व्यक्ति कोविड-19 से ठीक हुए। वर्तमान में कोविड 19 के 1,417 सक्रिय मामले हैं। अब तक 95,65,542 सैम्पल की जांच की गई है।

उन्होंने बताया कि राज्य की कोविड-19 रिकवरी दर 98.11 तथा मृत्यु दर 1.48 प्रतिशत है। सक्रिय मामलों में से 1,028 (72.55 प्रतिशत) मामले एसिम्टोमेटिक तथा 389 (27.45 प्रतिशत) मामले सिम्टोमेटिक श्रेणी के हैं।

मंगलवार को पाॅजिटिविटि दर 0.08 प्रतिशत पायी गयी। राज्य में अब तक कुल 3,44,775 पाॅजिटिव कोविड-19 की पहचान हुई है तथा अब तक 5,102 लोगों की कोविड-19 से मृत्यु हुई है।

22 जून को वैक्सीन की 1,12,216 डोज लगाई गयी, जिसमें से 93,393 लोगों को पहली डोज व 18,823 लोगों को दूसरी डोज दी गई।

कुल 1,10,547 डोज 18 वर्ष के ऊपर के व्यक्तियों को लगाई गयी। 22 जून तक 50,47,693 लोगों को वैक्सीन की प्रथम डोज दी गई है।

राज्य में अब तक कुल 9,45,835 लोगों को वैक्सीन का दूसरा डोज भी दिया जा चुका है।  22 जून तक 18 वर्ष आयु वर्ग के 44,84,480 लोगों को वैक्सीन की पहली डोज लगा दी गई है।

मंगलवार तक 18 वर्ष आयु वर्ग के 5,79,972 लोगों को वैक्सीन की दूसरी डोज भी लगा दी गई है।

राज्य में कोविशील्ड की 3,07,100 और कोवैक्सीन की 1,66,580 वैक्सीन उपलब्ध है।

उन्होंने बताया कि 22 जून तक 1,15,429 होम आइसोलेशन किट (मुख्यमंत्री कोरोना राहत किट) कोविड-19 पाॅजिटिव लोगों को उपलब्ध कराया गया।

मंगलवार को 77 होम आइसोलेशन किट उपलब्घ करायी गई।

104 सेवा 22 जून तक कोविड-19 से बचाव के लिए आॅडियो काॅल के माध्यम से 2,64,041 व्यक्तियों को चिकित्सा सलाह दी गई तथा वीडियो काॅल के माध्यम से 30,062 व्यक्तियों को चिकित्सा सलाह दी गई।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button