CM हेमंत सोरेन को E-MAIL कर दी धमकी, दर्ज हुई FIR ; भेजने वाले विक्रम गोधराई ने लिखा…

रांची: CM हेमंत सोरेन को एक बार फिर ई-मेल E-MAIL के जरिए अपशब्द कहे जाने का मामला सामने आया है। इससे पहले भी हेमंत सोरेन को दो बार ई-मेल के जरिए धमकी दी गई थी। इसे लेकर गोंदा थाना में मामला दर्ज हुआ है।

एफआईआर के आधार पर साइबर टीम पूरे मामले की जांच में जुटी हुई है। पुलिस सूत्रों के अनुसार कर्नाटक के एक व्यक्ति ने मेल कर झारखंड के मुख्यमंत्री को अपशब्द कहे हैं।

इस मामले में गोंदा थाना ने कार्रवाई करते हुए आईपीसी की धारा के तहत विक्रम गोधराई मुनेश्वर के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

विक्रम गोधराई मूल रूप से ए क्रॉस बीईएमएल, ले आउट, राजा राजेश्वरी नगर बेंगलुरू कर्नाटका-560098 का रहने वाला है। उसके खिलाफ गोंदा थाना में पदस्थापित पुलिस अवर निरीक्षक दीपक कुमार ने प्राथमिकी दर्ज कराई है।

बताया गया कि मुख्यमंत्री के प्रिंसिपल सेक्रेटरी के ई-मेल सेक्रेटरी टू सीएम पर विक्रम गोधराई नाम के एक व्यक्ति द्वारा 25 मई को दिन के 3.19 बजे एक ई-मेल भेजा गया था।

जिसमें लिखा था कि बा..सो..आई विल बियर योर डेथ सेरेमनी कॉस्ट फ्राम माई पर्सनल पॉकेट। थर्ड क्लास बा… डाई एज सून पॉसिबल।

इस तरह का मामला सामने आने के बाद पुलिस ने साइबर सेल से जांच कराई तो आरोपी की पूरी जानकारी मिली।

पुलिस ने ई-मेल की जांच की। उसके आईपी एड्रेस, रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर की जांच कराई गयी।

साइबर सेल रांची ने ई-मेल की जांच की तो यह पता चला कि मेल भेजने वाला व्यक्ति विक्रम गोधराई मुनेश्वर है। जो बेंगलुरू कर्नाटक का रहने वाला है।

इंस्पेक्टर अवधेश ठाकुर ने बुधवार को बताया कि इस मामले में कार्रवाई की जा रही है। अभी ई-मेल करने वाला व्यक्ति पकड़ा नहीं गया है।

मामले में ई-मेल करने वाले व्यक्ति के बारे में पूरा डिटेल निकाला गया है। उल्लेखनीय है कि बीते चार जनवरी को राजधानी के किशोरगंज चौक पर मुख्यमंत्री के काफिले पर हमले के बाद पांच जनवरी को उन्हें एक बेनामी ई-मेल भेजकर जान से मारने की धमकी दी गई थी।

इस मामले में मुख्यमंत्री आवास में तैनात विशेष शाखा के दारोगा मोहम्मद तंजील खान के बयान पर रांची के साइबर थाना में प्राथमिकी (केस नंबर 02/2021) दर्ज की गई थी। जबकि पिछले वर्ष भी जुलाई महीने में ई-मेल भेजकर मुख्यमंत्री को धमकी दी गई थी।

अपराधियों ने आठ व 17 जुलाई 2020 को ई-मेल भेजकर धमकी दी थी। इस मामले में रांची के साइबर थाने में पहले ही दो अलग-अलग प्राथमिकी दर्ज की गई थी। दोनों ई-मेल भेजने में जर्मनी व स्विटजरलैंड के अलग-अलग सर्वर का प्रयोग किया गया था।

हेमंत सोरेन को धमकी देने के मामले में अभी तक झारखंड पुलिस के हाथ खाली हैं। सभी मामलों में जांच चल रही है। लेकिन अब तक कोई गिरफ्तारी नहीं हो पाई है।

जिस सरवर का प्रयोग कर मुख्यमंत्री को धमकी भरे ई-मेल भेजे गए थे। दोनों स्विट्जरलैंड और जर्मनी का है। झारखंड पुलिस ने दोनों देशों को इस मामले को लेकर पत्र भेजा है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button