अमेरिका में अपनी शेल गैस संपत्तियां बेचने के लिए रिलायंस इंडस्ट्रीज ने दी सहमति

नई दिल्ली: देश सबसे बड़े औद्योगिक समूह रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) ने ईगलफोर्ड की शेल गैस संपत्तियों में अपनी हिस्सेदारी बेचने की सहमति प्रदान कर दी है।

इसके साथ कंपनी अमेरिका में शेल गैस के कारोबार से बाहर निकल गई है। कंपनी ने अभी इस सौदे के मूल्य की जानकारी सार्वजनिक नहीं की है।

रिलायंस ने 2010 और 2013 के बीच शेवरॉन, पायनियर नैचुरल रिसोर्स व कैरिजो ऑयल एंड गैस के साथ तीन अपस्ट्रीम खोज संयुक्त उपक्रमों तथा पायनियर के साथ एक मिडस्ट्रीम संयुक्त उद्यम में हिस्सेदारी खरीदी थी।

मिडस्ट्रीम का मतलब हाइड्रोकार्बन की प्रोसेसिंग, स्‍टोरेज, ट्रांसपोर्टेशन और मार्केटिंग से है। रिलायंस इंडस्‍ट्रीज ने कहा कि कंपनी की सहयोगी रिलायंस ईगलफोर्ड अपस्ट्रीम होल्डिंग, एलपी (आरईयूएचएलपी) ने ईगलफोर्ड शेल की संपत्तियों में अपनी हिस्सेदारी के विनिवेश के लिए एनसाइन ऑपरेटिंग 3 एलएलसी के साथ समझौतों पर 5 नवंबर 2021 को हस्ताक्षर कर दिए हैं।

इस लेनदेन के साथ रिलायंस ने उत्तरी अमेरिका में अपनी सभी शेल गैस संपत्तियां बेच दी हैं। आरआईएल अमेरिका के शेल गैस के कारोबार से पूरी तरह बाहर निकल गई है।

बताया जा रहा है कि रिलायंस नॉर्थ अमेरिका में अपनी शेल गैस संपत्तियों की बिक्री मौजूदा मूल्‍य से ऊंचे दाम पर कर रही है।

इस सौदे में सिटी ग्रुप ग्‍लोबल मार्केट रिलायंस के लिए वित्‍तीय सलाहकार और गिब्‍सन, डन एंड क्रचर एलएलपी कानूनी सलाहकार की भूमिका निभा रही हैं।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button