कोरोना के मामले बढ़ने से दिल्ली से सटे दो शहरों में धारा 144 लागू

नई ‎दिल्ली: दिल्ली से सटे दो शहरों में कोरोना के बढ़ते मामले के कारण प्रशासन ने धारा 144 लागू कर दिया गया है।

 हालात को काबू में रखने के लिए प्रशासन ने यह कदम उठाया है। पहले गाजियाबाद और अब नोएडा में प्रतिबंध लगा है।

गाजियाबाद में बीते बुधवार को धारा 144 लागू की गई थी वहीं गुरुवार को गौतमबुद्ध नगर में भी धारा 144 लागू कर दी गई है।

गौतमबुद्ध नगर पुलिस ने बताया कि धारा 144 लागू इसलिए लागू किया जा रहा है क्योंकि कई लोग कोरोना से जुड़ी गाइडलाइन का पालन नहीं कर रहे हैं।

लोग ना तो पब्लिक प्लेस पर शारीरिक दूरी का खास खयाल रख रहे हैं वहीं मास्क भी सही तरीके से लगाया जा रहा है।

 कई लोग तो बिना मास्क के ही सार्वजनिक जगहों पर नजर आ रहे हैं।

बता दें कि सरकार हर स्तर पर यह लोगों को बता रही है अभी कोरोना खत्म नहीं हुआ है ऐसे में पूरी सावाधानी बरतनी होगी। बीते कुछ दिनों से कोरोना के केस लगातार बढ़ रहे हैं। ऐसे में लापरवाही लोगों को भारी पर सकती है।

जिले में कोरोना संक्रमितों की संख्या एक बार फिर बढ़ने लगी है।

बुधवार को 7 नए संक्रमित मिले और 9 स्वस्थ हो गए। कुल संक्रमितों का आंकड़ा 25,693 हो गया है।

इनमें 76 सक्रिय है। उधर पांच जनवरी के बाद से एक भी संक्रमित की मौत न होने से विभागीय अधिकारियों को राहत है। अब तक कुल 25,526 लोग कोरोना से ठीक हो चुके और सामान्य जीवन जी रहे हैं।

संक्रमण की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग ने ट्रैकिंग सिस्टम को मजबूत करने व ट्रैवलर हिस्ट्री निकालकर लोगों की कोरोना जांच कर विशेष ध्यान देना शुरू कर दिया है।

इधर स्वास्थ्य विभाग ने लंदन, संयुक्त अरब अमीरत व दक्षिण अफ्रीका से यात्रा कर लौटे 152 लोगों को होम क्वारंटाइन किया है।

कोरोना प्रभावित राज्यों से आने वाले लोगों की जानकारी के लिए रेलवे स्टेशन और बस डिपो में भी स्वास्थ्य विभाग ने एक सप्ताह पहले पत्र लिखा था, लेकिन यहां से जानकारी न मिलने के कारण इन लोगों की मानिटरिंग नहीं हो पा रही है।

 विदेश से आने वाले लोगों की जानकारी एयरपोर्ट प्राधिकरण शासन को भेजता है।

अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. ललित कुमार ने बताया कि होम क्वारंटाइन में रहने वाले लोगों की प्रतिदिन जानकारी ली जा रही है। सभी का स्वास्थ्य ठीक है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button