फिक्सिंग के कारण तबाह हुआ था क्रोनिए का करियर

जोहांसबर्ग: वर्ष 2000 को विश्व क्रिकेट का सबसे काला अध्याय माना जाता है। इसी साल क्रिकेट में सबसे पहले फिक्सिंग का खुलासा हुआ था और वह किसी और ने नहीं जबकि सबसे सम्मानित कप्तान माने जाने वाले दक्षिण अफ्रीका के तत्कालीन कप्तान हैंसी क्रोनिए ने किया था।

क्रोनिए ने अपनी अंतरआत्मा की आवाज पर कबूल किया था कि फिक्सिंग में उनकी बड़ी भूमिका थी।

शुरुआती रिपोर्ट में उन्होंने फिक्सिंग के आरोपों को गलत बताया था पर बाद में इसमें शामिल होने की बात स्वीकार की थी।

इसके बाद क्रोनिए को कप्तानी से हटा दिया गया और उनका क्रिकेट करियर भी समाप्त हो गया था।

इसके बाद क्रोनिए जोहानिसबर्ग की एक कंपनी के लिए एक वित्तीय प्रबंधक के तौर में काम करने लगे पर तभी एक विमान हादसे में उनकी मौत हो गई थी।

उस वक्त क्रोनिए केवल 32 साल के थे। क्रोनिए ने 68 टेस्ट और 188 वनडे खेले। 53 टेस्ट मैचों में दक्षिण अफ्रीका की कप्तानी की।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button