ममता के आरोपों पर आयोग की तीखी प्रतिक्रिया

नई दिल्ली: चुनाव आयोग ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को लिखे कड़े शब्दों वाले एक पत्र में कहा कि वह इस बात को पसंद नहीं करेगा कि किसी राजनीतिक दल से कथित निकटता को लेकर उसे सवालों के कठघरे में खड़ा किया जाए।

मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा को भेजे गये ममता के एक पत्र के जवाब में चुनाव आयोग ने कहा,‘‘कोलकाता में और राष्ट्रीय राजधानी में हाल के समय में टीएमसी के प्रतिनिधियों से मुलाकात करने के बावजूद,‘‘यदि यह माननीय मुख्यमंत्री द्वारा कहा गया है कि आयोग को राजनीतिक दलों से मिलना चाहिए, तो यह संस्था के तौर पर आयोग का महत्व बार-बार संकेतों और दृढ़ कथनों के साथ घटाने की ही कोशिश होगी।”

पश्चिम बंगाल के प्रभारी उप निर्वाचन आयुक्त सुदीप जैन ने ममता को लिखे पत्र में कहा, ‘आयोग इस रुख पर कायम है कि वह किसी राजनीतिक दल से कथित निकटता के लिए गहन निगरानी में नहीं रखा जाना चाहेगा।

‘उन्होने कहा कि यदि मुख्यमंत्री खुद की सर्वश्रेष्ठ जानकारी में मौजूद कारण को लेकर इस मिथक पर जोर देने की कोशिश करेंगी तो सिर्फ वही बता सकती हैं कि वह ऐसा क्यों कर रही हैं।

मालूम हो ‎कि ममता ने मंगलवार को पश्चिम बंगाल में चुनावी रैलियों को संबोधित करते हुए कहा कि यदि भाजपा उसके रोजमर्रा के कामकाज में दखलंदाजी जारी रखेगी तो वह चुनाव आयोग कार्यालय के बाहर प्रदर्शन करने को मजबूर हो जाएंगी।

उन्होंने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर आरोप लगाया कि वह विधानसभा चुनाव से पहले तृणमूल कांग्रेस नेताओं को प्रताड़ित करने की साजिश रच रहे हैं। ममता ने यह भी जानना चाहा कि क्या चुनाव आयोग को उनसे (शाह से) निर्देश मिल रहे हैं।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button