केरल विधानसभा में बाढ़ पीड़ितों को दी गई श्रद्धांजलि, सदन सोमवार तक स्थगित

तिरुवनंतपुरम: पूजा अवकाश के बाद शुरू हुई केरल विधानसभा में बुधवार को बाढ़ के प्रकोप और राज्य में आने वाले दिनों में अधिक भारी बारिश की आशंका को देखते हुए सत्र को अगले सोमवार तक के लिए स्थगित करने का फैसला किया गया है।

मुख्यमंत्री पिनराई विजयन द्वारा बाढ़ में जान गंवाने वालों को श्रद्धांजलि अर्पित करने के बाद सत्र को केवल 15 मिनट में ही खत्म कर दिया गया।

उन्होंने कहा कि पिछले सप्ताह आई बाढ़ और उससे जुड़े प्रकोप में 39 लोगों की जान चली गई, जबकि 6 लोग लापता हैं।

इस दौरान विजयन ने यह भी कहा, लगभग 217 घर पूरी तरह से नष्ट हो गए हैं, जबकि 1,393 घर आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो गए। 300 से अधिक शिविर लगाए गए हैं और इसमें 3,851 परिवार रह रहे हैं। सरकार उन सभी के साथ खड़ी है, जो बाढ़ के कारण पीड़ित हैं।

राज्य में पिछले सप्ताह भारी बारिश हुई थी और सबसे बुरी तरह प्रभावित वाले कोट्टायम, पठानमथिट्टा और इडुक्की जिले थे।

140 सदस्यीय केरल विधानसभा में चल रहे राहत और पुनर्वास कार्यों के कारण केवल 52 सदस्य ही मौजूद थे।

सदन में विपक्ष के नेता वी.डी. सतीसन के मौजूद नहीं होने पर उनकी जगह पर के. बाबू ने कहा कि यह देखने के लिए कदम उठाए जाने चाहिए कि खराब मौसम के बारे में चेतावनियां मिलने के बावजूद, उसके अनुसार कार्य ना करना, किसी की लापरवाही तो नहीं हुई है।

विजयन ने यह भी चेतावनी दी कि बुधवार से और बारिश शुरू होने की उम्मीद है और आने वाले दो या तीन दिनों तक हो सकती है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button