अब सैटेलाइट बेस्ड सिस्टम से कटेगा टोल टैक्स, जानिए कैसे काम करेगा यह नया सिस्टम

News Aroma Desk

Toll Tax New System: केंद्रीय सड़क परिवहन (Central Road Transport) और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा है कि अब नेशनल हाईवे पर मौजूदा टोल कलेक्शन सिस्टम को खत्म कर Satellite Based System Launched किया जाएगा।

बताते चलें बीते साल दिसंबर महीने में ही सड़क परिवहन मंत्री ने एलान किया था कि NHAI मार्च 2024 से हाईवे पर टोल कलेक्शन के नए सिस्टम को रोल आउट करेगी।

जितनी दूरी की करेंगे यात्रा उतना कटेगा टोल टैक्स

Nitin Gadkari ने न्यूज एजेंसी ANI से कहा कि हाईवे पर यात्रा करने वाले व्यक्ति जितनी दूरी की यात्रा करेंगे उतनी रकम के बराबर टोल टैक्स उनके बैंक खाते से काट ली जाएगी।

महंगे टोल टैक्स को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में नितिन गड़करी ने कहा कि हाईवे के चलते लोगों के समय के साथ ईंधन की बचत भी होती है। उन्होंने बताया कि पहले मुंबई से पुणे तक की यात्रा करने में 9 घंटे लगते थे लेकिन अब ये यात्रा केवल 2 घंटे में पूरी की जा सकती है।

कैसे काम करेगा यह नया सिस्टम

जाहिर है आने वाले दिनों में GPS बेस्ड टोल कलेक्शन सिस्टम की शुरुआत होने जा रही है। तो चलिए बताते हैं आखिर यह नया सिस्टम किस तरह से काम करेगा।

NHAI GPS Technology आधारित टोल कलेक्शन सिस्टम को लॉन्च करेगा।जिसमें नेशनल हाईवे पर गाड़ी चलाने वाले ड्राइवर्स को टोल प्लाजा पर टोल चार्जेज के भुगतान करने के लिए रुकने की जरूरत नहीं पड़ेगी। इसकी जगह गाड़ी के मालिकों के बैंक खाते से रकम को काट लिया जाएगा।

ऑटोमैटिक नंबर प्लेट रीडर होंगे जरूरी

GPS बेस्ड टोल सिस्टम को हाईवे पर चलने वाली गाड़ी के GPS कोऑर्डिनेट्स से मिलाया जाएगा। और जैसे ही गाड़ी कलेक्शन प्वाइंट पर पहुंचेगा टोल फीस ऑटोमैटिक रूप से बैंक खाते से काट लिया जाएगा।

इस सिस्टम को काम करने के लिए सभी गाड़ियों में ऐसा नंबर प्लेट्स होना चाहिए जिसे जीपीएस के जरिए सैटेलाइट से Monitor किया जा सके।

इसके लिए ऑटोमैटिक नंबर प्लेट रीडर (Automatic Number Plate Reader) कैमरा हाईवे पर इंस्टॉल किया जाएगा जो जीपीएस – इनेबल्ड नंबर प्लेट को पढ़ सके। इसके जरिए ही कस्टमर्स के बैंक खाते से पैसे काटे जायेंगे।

हमें Follow करें!