संगठित आपराधिक गिरोहों की कमर तोड़ने को संकल्पबद्ध हैं झारखंड के DGP अजय सिंह, बना रहे यह रणनीति

9 को मंजूरी मिल गई है, 11 अभी भी लंबित हैं। धनबाद जिले में 8 अपराधियों के खिलाफ CCA का प्रस्ताव था

News Aroma Media

रांची: झारखंड में संगठित आपराधिक गिरोहों (Organized Criminal Gangs) के खिलाफ कड़े एक्शन के मूड में दिखाई दे रहे हैं DGP अजय सिंह (DGP Ajay Singh)। उनका रुख उनकी संकल्पबद्धता को जाहिर कर रही है।

इसका पता इस बात से चलता है कि शनिवार को मुख्यालय में हुई पुलिस अधिकारियों की मीटिंग का मुख्य एजेंडा संगठित आपराधिक गिरोहों (Agenda Organized Criminal Gangs) को लेकर ही रखा गया था।

CCA लागू करने का दिया है निर्देश

संगठित आपराधिक गिरोह पर नकेल कसने के लिए CCA यानी क्राइम कंट्रोल एक्ट (Crime Control Act) के तहत कार्रवाई करने का निर्देश DGP ने दिया है।

पुलिस मुख्यालय (Police Headquarters) से मिली जानकारी के अनुसार, वर्ष 2022 में अपराध पर लगाम कसने के लिए झारखंड के 21 जिलों के SP ने अपने-अपने जिले में 175 दुर्दांत अपराधियों के खिलाफ CCA का प्रस्ताव मंजूरी के लिए भेजा था।

82 प्रस्तावों को मंजूरी देदी गई है, जबकि पूरे झारखंड में अब तक 93 अपराधियों पर CCA का प्रस्ताव लंबित है। राजधानी रांची में 20 अपराधियों के खिलाफ जिला पुलिस ने सीसीए का प्रस्ताव दिया था।

9 को मंजूरी मिल गई है। 11 अभी भी लंबित हैं। धनबाद जिले में 8 अपराधियों के खिलाफ CCA का प्रस्ताव था। 8 को मंजूरी मिली है। जमशेदपुर में भी 8 अपराधियों (Criminals) के खिलाफ CCA का प्रस्ताव था।

6 के खिलाफ मंजूरी मिल गई है। बाबा नगरी देवघर (Baba Nagri Deoghar) में 20 अपराधियों के खिलाफ प्रस्ताव दिया गया था, जिनमें 17 की मंजूरी मिली है।

इन जिलों से एक भी प्रस्ताव नहीं

गुमला, जामताड़ा और पाकुड़ जिले से एक भी CCA का प्रस्ताव पिछले एक वर्ष में नहीं दिया गया है। झारखंड (Jharkhand) के कुछ ऐसे भी जिले हैं, जिनमें जितने CCA के प्रस्ताव भेजे गए थे, सबको मंजूरी मिल गई है। उनमें कोडरमा, सिमडेगा और खूंटी शामिल हैं।

हमें Follow करें!

x