भारत

महाराष्ट्र में 50 फीसद पाबंदी, स्कूलों पर लटका ताला, पंजाब में बोर्ड परीक्षाएं टलीं

नई दिल्ली: महाराष्ट्र, पंजाब, कर्नाटक, गुजरात और तमिलनाडु में बढ़ते कोरोना संक्रमण ने एक बार फिर चिंता बढ़ा दी है। 78 फीसद से ज्यादा मामले इन्हीं पांच राज्यों से आ रहे हैं।

महाराष्ट्र के पुणे, नागपुर और औरंगाबाद ने नाइट कर्फ्यू लगाया गया है। वहीं, पंजाब सरकार ने 12वीं और 10वीं कक्षाओं की बोर्ड परीक्षाएं टालने का फैसला किया है।

जबकि मध्य प्रदेश में नाइट कर्फ्यू के हालात बन रहे हैं। महाराष्ट्र में कोरोना के मामले 23 लाख को पार कर गए हैं। मध्य प्रदेश सरकार ने भी अपनी तैयारियां शुरू कर दी है।

महाराष्ट्र से राज्य में आने वाले लोगों को सात दिन क्वारंटाइन करने के निर्देश जारी किए हैं। पंजाब सरकार ने स्कूल शिक्षा बोर्ड की मार्च महीने में ली जाने वाली बोर्ड परीक्षाओं को आगे टाल दिया है।

अब 12वीं और 10वीं कक्षाओं की बोर्ड परीक्षाएं अप्रैल और मई में ली जाएंगी। पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड के मुताबिक कोरोना के बढ़ते मामलों के कारण 22 मार्च से शुरू होने वाली 12वीं कक्षा की परीक्षा अब 20 अप्रैल से 24 मई तक होगी।

वहीं, 10वीं की परीक्षा चार मई से 24 मई तक होगी। समय में कोई बदलाव नहीं किया गया है। राज्य में पाजिटिव मामले 199573 तक पहुंच गए हैं।

दूसरे राज्यों में बढ़ते कोरोना के मामलों को देखते हुए बिहार में पंजाब, केरल और महाराष्ट्र से आने वाले लोगों को अपनी कोरोना टेस्ट रिपोर्ट दिखानी होगी।

यह व्यवस्था एयरपोर्ट के साथ ही रेलवे स्टेशनों और बस अड्डों पर भी लागू रहेगी। प्रदेश के सरकारी और प्राइवेट स्कूलों को भी बंद किए जाने पर विचार किया जा रहा है।

85 दिनों बाद देश में 26 हजार से ज्यादा नए मामले सामने आए हैं। इनमें से 63 फीसद से ज्यादा मामले अकेले महाराष्ट्र में ही मिले हैं।

इसके अलावा तमिलनाडु, मध्य प्रदेश, दिल्ली, हरियाणा और गुजरात में भी संक्रमण बढ़ रहा है। देश में कुल संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर एक करोड़ 13 लाख 85 हजार को पार कर गया है।

इनमें से एक करोड़ 10 लाख सात हजार से ज्यादा मरीज पूरी तरह से ठीक हो चुके हैं और 1,58,725 लोगों की जान भी जा चुकी है।

मरीजों के उबरने की दर घटकर 96.68 फीसद पर आ गई है और मृत्युदर 1.39 फीसद है। भारत ने जारी टीकाकरण अभियान के तहत लाभार्थियों को कोरोना वैक्सीन की तीन करोड़ से ज्यादा खुराकें दी जा चुकी है।

इनमें से 18 लाख से ज्यादा खुराक सोमवार को दी गईं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि कुल तीन करोड़ 17 लाख 71 हजार 661 खुराकें दी जा चुकी हैं।

Back to top button