5 सालों में बैंकों ने बड़े औद्योगिक घरानों के माफ कर दिए 5.52 लाख करोड़ लोन, संसद में…

सरकार ने मंगलवार को संसद को यह जानकारी दी। वित्त राज्यमंत्री भागवत कराड ने Rajya Sabha में एक प्रश्न के उत्तर में कहा, ''Reserve Bank के आंकड़ों के अनुसार, अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों (SCB) ने पिछले पांच वित्त वर्षों के दौरान 10.57 लाख करोड़

News Aroma

Bank Loan Write Off: बैंकों (Bank) ने पिछले पांच वित्त वर्षों के दौरान 10.57 लाख करोड़ रुपये बट्टे खाते में डाली है। जिसमें से 5.52 लाख करोड़ रुपये की राशि बड़े उद्योगों से संबंधित Loan के संदर्भ में हैं।

10.57 लाख करोड़ रुपये की कुल ऋण राशि बट्टे खाते में

सरकार ने मंगलवार को संसद को यह जानकारी दी। वित्त राज्यमंत्री भागवत कराड ने Rajya Sabha में एक प्रश्न के उत्तर में कहा, ”Reserve Bank” के आंकड़ों के अनुसार, अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों (SCB) ने पिछले पांच वित्त वर्षों के दौरान 10.57 लाख करोड़ रुपये की कुल ऋण राशि बट्टे खाते में डाली है।”

बीते पांच साल में बैंकों ने 10.57 लाख करोड़ रुपये बट्टे खाते में डाले, धोखाधड़ी की 93,874 करोड़ रुपये... - In the last five years, banks wrote off Rs 10.57 lakh crore, fraud amounted to Rs 93,874 crore...

NPA एक नॉन-परफॉर्मिंग असेट है

Loan की EMI के दो घटक होते हैं – Principal Amount और Interest Amount। जैसे-जैसे Borrower EMI का Payment करते हैं, Interest Amount कम हो जाता है और Principal Amount का योगदान बढ़ जाता है। यदि कोई बॉरोअर लोन चुकाने में विफल रहता है, तो Bank कभी-कभी लोन माफ कर देते हैं।

लोन Write-Off तब होता है जब Loan को बैंक द्वारा Asset के रूप में नहीं गिना जाता है। सरल शब्दों में यह लोन की वह राशि है जिसे बैंकों द्वारा बट्टे खाते में डाल दिया जाता है, जिससे उसके खातों में गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों (NPA) का स्तर कम हो जाता है।

NPA एक Non-Performing Asset है। भारतीय रिजर्व बैंक NPA को किसी भी अग्रिम या लोन के तौर पर परिभाषित करता है जो 90 दिनों से अधिक समय से बकाया है।

Loan Write Off में, Bank Repayment होने तक Borrower द्वारा गिरवी रखी गई वस्तु जब्त कर सकता है या लोन राशि की वसूली के लिए गिरवी रखी वस्तु की नीलामी भी कर सकता है।

बीते पांच साल में बैंकों ने 10.57 लाख करोड़ रुपये बट्टे खाते में डाले, धोखाधड़ी की 93,874 करोड़ रुपये... - In the last five years, banks wrote off Rs 10.57 lakh crore, fraud amounted to Rs 93,874 crore...

7.15 लाख करोड़ की NPA की वसूली

वाणिज्यिक बैंकों (Commercial Banks) ने पांच साल की अवधि के दौरान 7.15 लाख करोड़ रुपये की NPA की वसूली भी की है।

उन्होंने कहा, NPA की वसूली के लिए व्यापक कदम उठाए गए हैं, जिससे SCB ने पिछले पांच वर्षों के दौरान बट्टे खाते में डाले गए ऋणों सहित NPA खातों में 7,15,507 करोड़ रुपये की कुल वसूली की है।”

बीते पांच साल में बैंकों ने 10.57 लाख करोड़ रुपये बट्टे खाते में डाले, धोखाधड़ी की 93,874 करोड़ रुपये... - In the last five years, banks wrote off Rs 10.57 lakh crore, fraud amounted to Rs 93,874 crore...

 

93,874 करोड़ रुपये की हुई धोखाधड़ी

एक अलग प्रश्न के उत्तर में, कराड (Karad) ने कहा, ”अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों ने पिछले पांच वित्त वर्षों के दौरान, यानी वित्त वर्ष 2018-19 से वित्त वर्ष 2022-23 तक बड़े उद्योगों और सेवाओं से संबंधित ऋणों के संबंध में 5.52 लाख करोड़ रुपये की कुल राशि बट्टे खाते में डाली है।

” उन्होंने यह भी कहा कि इसमें पांच साल की अवधि के दौरान सभी बैंकों द्वारा धोखाधड़ी के कारण बट्टे खाते में डाले गए 93,874 करोड़ रुपये भी शामिल हैं।

हमें Follow करें!