बिहार संग्रहालय, पटना म्यूजियम भूमिगत मार्ग से जुड़ेगा, जो अनोखा होगा: नीतीश कुमार

पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरुवार को कहा कि बिहार संग्रहालय (म्यूजियम) और पटना संग्रहालय को भूमिगत मार्ग से जोड़ जा रहा है, जो अपने आप में अनोखा होगा।

कुमार वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से नगर विकास एवं आवास विभाग की समीक्षा बैठक के दौरान कहा कि देश का पहला अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालय पटना में बिहार म्यूजियम बनाया गया।

उन्होंने कहा कि पहले से बनाए गए पटना म्यूजियम का विस्तारीकरण कर उसे और भी बेहतर बनाया जा रहा है।

उन्होंने कहा, बिहार संग्रहालय और पटना संग्रहालय भूमिगत मार्ग से जुड़ेगा, जो अपने आप में अनोखा होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जो प्रस्तावित एलाइनमेंट दिखाया गया है, वह बढ़िया है। इसमें सुरक्षा का विशेष ध्यान रखना है।

दोनों संग्रहालय की आपस में जुड़ने से बिहार के पुराने इतिहास को और बेहतर ढंग से समझने में सहूलियत होगी और विस्तृत जानकारी मिल सकेगी।

उन्होंने कहा कि मीठापुर तालाब परियोजना का कॉन्सेप्ट भी बेहतर है। तालाब के चारो तरफ अधिक से अधिक वृक्ष लगाएं, जिससे पूरा क्षेत्र हरियालीयुक्त हो।

इससे पहले समीक्षा के दौरान नगर विकास एवं आवास विभाग के प्रधान सचिव आनंद किशोर ने प्रस्तुतिकरण के जरिए नगर विकास एवं आवास विभाग की महत्वकांक्षी योजनाओं की विस्तृत जानकारी दी।

उन्होंने बिहार संग्रहालय और पटना संग्रहालय के बीच भूमिगत मार्ग से जोड़ने तथा मीठापुर तालाब परियोजना सहित कई अन्य परियोजनाओं के विषय में बताया।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button