मुंह में फंगल इन्फेक्शन के लिए करें ये घरेलू उपाय, इस तरह मिलेगा फ़ायदा

घरेलू नुस्खों की मदद से ओरल थ्रश का इलाज कैसे किया जा सकता है

लाइफस्टाइल डेस्क: मुंह में फंगल इन्फेक्शन के कुछ घरेलू उपचार बता रहे हैं, जिनकी मदद से इसके लक्षणों को काफी हद तक कम किया जा सकता है। चलिए, जानते हैं कि घरेलू नुस्खों की मदद से ओरल थ्रश का इलाज कैसे किया जा सकता है।

1. सेब का सिरका
     सामग्री :

    1 गिलास गुनगुना पानी
1 चम्मच एप्पल साइडर विनेगर (सेब का सिरका)
शहद (वैकल्पिक)

उपयोग का तरीका

  एक गिलास गुनगुने पानी में एक चम्मच एप्पल साइडर विनेगर को मिलाएं।
स्वाद के लिए चाहे तो इसमें शहद मिला सकते हैं।
इसे धीरे-धीरे सिप करके पिएं।
इसे पूरे दिन में दो बार कर सकते हैं।

कैसे है फायदेमंद

मुह में फंगल इन्फेक्शन को कम करने के टिप्स में सेब के सिरके का उपयोग करने की सलाह दी जा सकती है। दरअसल, इससे संबंधित एक अध्ययन में सेब के सिरके को कैंडिडा फंगस के खिलाफ एंटीफंगल प्रभाव दिखाने में सक्षम पाया गया।

वहीं, बता दें कि मुंह में होने वाला इंफेक्शन कैंडिडा नामक फंगस के कारण होने वाला संक्रमण है। यही वजह है कि मुह में फंगल इन्फेक्शन को कम करने के घरेलू उपाय में सेब के सिरके का इस्तेमाल करना लाभकारी साबित हो सकता है।

2. नारियल तेल से ऑयल पुलिंग करना
    सामग्री :

5 चम्मच नारियल तेल

उपयोग का तरीका :

एक बड़ा चम्मच नारियल का तेल मुंह में लें।
फिर इससे कुछ देर तक गरारे करें।
फिर कुल्ला करके तले को थूक दें और साफ पानी से कुल्ला करें।
इसके बाद आप ब्रश कर सकते हैं।
जब तक ओरल थ्रश से निजात नहीं मिलता है, तब तक इस प्रक्रिया को सुबह बासी मुंह कर सकते हैं।
नोट- तेल के गरारे करते समय तेल को निगलने की गलती न करें, क्योंकि तेल में बैक्टीरिया और हानिकारक विषाक्त पदार्थ हो सकते हैं, जो शरीर में प्रवेश कर सेहत पर बुरा प्रभाव छोड़ सकते हैं।

कैसे है फायदेमंद

ऑयल पुलिंग एक प्राचीन आयुर्वेदिक उपचार है, जिसका उपयोग मौखिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रखने के लिए किया जाता है। इसमें विभिन्न खाद्य तेलों से गरारे किए जाते हैं, जिनमें नारियल तेल के इस्तेमाल का भी जिक्र मिलता है।

वहीं, यीस्ट फंगस को नष्ट करने के लिए नारियल तेल का एंटीफंगल गुण प्रभावकारी हो सकता है (5)।

मुंह में होने वाले इंफेक्शन यानी ओरल थ्रश का कारण कैंडिडा फंगस को माना जाता है (1)। ऐसे में ओरल थ्रश से राहत पाने के लिए नारियल तेल से ऑयल पुलिंग करना लाभकारी हो सकता है।

3. दही
सामग्री :

  एक चम्मच दही

  उपयोग का तरीका :

  मुंह में एक चम्मच दही डालें।
इसे निगलने से पहले 5 मिनट के लिए ऐसे ही छोड़ दें।
इसके बाद इसे निगल जाएं।
ऐसा दिन में तीन बार कर सकते हैं।

कैसे है फायदेमंद :

मुंह में फंगल इंफेक्शन के लिए दही का उपयोग भी प्रभावी हो सकता है। एक शोध में साफ तौर से इस बात का जिक्र किया गया है कि दही में लैक्टोबैसिलस नामक गुड बैक्टीरिया पाये जाते हैं, जिसका एंटी फंगल प्रभाव कैंडिडा संक्रमण से राहत दिलवाने का काम कर सकता है।

बताते चलें कि ओरल थ्रश भी कैंडिडा नामक फंगस के कारण होने वाला एक फंगल इंफेक्शन ही है। इस आधार पर माना जा सकता है कि दही का सेवन ओरल थ्रश के इलाज में मदद कर सकता है।

4. बेकिंग सोडा
    सामग्री :

  एक गिलास पानी
आधा चम्मच बेकिंग सोडा

 उपयोग का तरीका :

एक गिलास पानी में आधा चम्मच बेकिंग सोडा मिलाएं।
जब यह अच्छे से घुल जाए, तो इस घोल से कुल्ला करें।
ऐसा दिन में 2 से 3 बार तब तक कर सकते हैं।
नोट- इस उपाय को करते समय इस बात का ध्यान रहे कि बेकिंग सोडा और पानी से तैयार मिश्रण को निगलना नहीं है। यह सेहत पर नकारात्मक प्रभाव छोड़ सकता है।

कैसे है फायदेमंद :

बेकिंग सोडा, जिसे वैज्ञानिक भाषा में सोडियम बाइकार्बोनेट भी कहा जाता है। यह एंटी फंगल गुणों से समृद्ध होता है। ऐसे में यह मुंह में संक्रमण पैदा करने वाले फंगस को खत्म कर सकता है।

इस आधार पर माना जा सकता है कि बेकिंग सोडा का उपयोग ओरल थ्रश के इलाज में भी मदद कर सकता है। हालांकि, इस संबंध में अधिक शोध की आवश्यकता है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button