वैक्सीन की दोनों खुराक लेने के बाद भी डॉक्टर दंपति कोरोना संक्रमित

अहमदाबाद: राज्य में कोरोना वैक्सीन लेने के बाद अहमदाबाद में एक डॉक्टर दंपति के कोरोना संक्रमित होने का मामला सामने आया है।

अब उन्हें गृह एकांतवास में ही रखा गया है। इससे पूर्व एक मेडिेकल छात्र भी वैक्सीन की दोनों खुराक लेने के बाद भी संक्रमित हुआ था।

अहमदाबाद के आंबावाड़ी इलाके में रहने वाले डॉक्टर दंपति ने कोरोना वैक्सीन की दोनों खुराक लेने के बाद भी उनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

एएमसी डेंटल कॉलेज के प्रोफेसर डॉ. बेला दवे ने बताया कि हमने वैक्सीन की दोनों खुराक ली हैं। लेकिन बाद में मेरी और मेरे पति की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

फिलहाल में हम लोग होम एकांतवास में हैं। टीकाकरण का कोई दुष्प्रभाव नहीं है।

बताया गया कि डॉ. बेला दवे महानगर के खोखरा स्थित एएमसी डेंटल कॉलेज में डीन हैं और उनके पति डॉ. दिलीप दवे बापूनगर में भाग्येश पैथोलॉजी प्रयोगशाला चलाते हैं।

उल्लेखनीय है कि अहमदाबाद में कोरोना वैक्सीन लेने के बाद भी कोरोना संक्रमण होने पर वैक्सीन की क्षमता पर सवाल उठने लगा है।

इससे पहले भी जूनागढ़ मेडिकल कॉलेज में प्रथम वर्ष में पढ़ने वाले एक छात्र के कोरोना वैक्सीन की दोनों खुराकें लेने के बाद उसकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इसके बाद मेडिकल कॉलेज का हॉस्टल खाली कर दिया गया है।

विशेषज्ञों के अनुसार, कोरोना वैक्सीन को एक महीने के अंतराल पर दो खुराक में लेना चाहिए। दूसरी खुराक के 10 दिन बाद शरीर एंटीबॉडी का उत्पादन करता है।

सूत्रों के अनुसार जूनागढ़ में कोरोना से संक्रमित मेडिकल छात्र ने दोनों खुराक ले चुका था। लेकिन दूसरी खुराक लेने के सात दिन बाद ही उसकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी।

हालांकि, राहत की बात यह है कि छात्र का स्वास्थ्य फिलहाल स्थिर है। 24 घंटे में राज्य में 57,194 लोगों का टीकाकरण राज्य में पिछले 24 घंटे में 57 हजार 194 लोगों को वैक्सीन का टीका लगाया गया है।

इसमें गंभीर बीमारी वाले 45 से 60 वर्ष की आयु के 42,849 लोगों को टीका लगाया गया है।

राज्य में अब तक 19 लाख 77 हजार 802 लोगों को पहली खुराक और 5 लाख 635 लोगों को दूसरी खुराक दी जा चुकी है।

राज्य में कोरोना टीकाकरण का तीसरा चरण 01 मार्च से शुरू हो चुका है। अब तक राज्य में किसी पर भी इस टीके का कोई गंभीर दुष्प्रभाव नहीं देखा है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button