झारखंड में मांगों को लेकर होमगार्ड जवानों का धरना, मुख्यमंत्री के नाम चार सूत्रीय ज्ञापन सौंपा

कोडरमा : झारखंड होमगार्ड वेलफेयर एसोसिएशन के बैनर तले होमगार्ड जवानों ने सुविधा देने सहित चार सूत्रीय मांगों को लेकर समाहरणालय परिसर में एक दिवसीय धरना दिया।

धरना के बाद मुख्यमंत्री के नाम चार सूत्रीय मांगपत्र उपायुक्त को सौंपा गया। धरना का नेतृत्व जिलाध्यक्ष रंजीत सिंह, सचिव राजेन्द्र प्रसाद यादव एवं संरक्षक रामानंद सिन्हा ने किया।

धरनास्थल पर रंजीत सिंह की अध्यक्षता एवं मो. आशिक के संचालन में एक सभा हुई।

सभा को संबोधित करते हुए सीटू राज्य कमेटी के सदस्य संजय पासवान ने कहा कि झारखंड पुलिस के बराबर होमगार्ड जवानों से काम लिया जाता है।

लेकिन, उन्हें वेतन बहुत कम दिया जाता है जो श्रम कानूनों का उलंघन है। इसलिए समान काम का समान वेतन मिलना चाहिए।

मजदूर कर्मचारी समन्वय समिति के जिला सचिव दिनेश रविदास ने कहा कि हाई कोर्ट से होमगार्ड जवानों के पक्ष में फैसला होने के बाबजूद झारखण्ड सरकार इसे लागू नहीं कर रही है।

एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष रंजीत सिंह ने कहा कि पड़ोसी राज्य बिहार में हॉमगार्ड जवानों को एक दिन का वेतन 774 रुपये दिया जा रहा है, लेकिन झारखण्ड में सिर्फ 500 रुपये मिल रहा है।

यहां जवानों को साल में आधा दिन ही काम काम मिलता है। इस हिसाब से 250 रुपये ही रोज मिलता है।

उन्होंने चेतावनी दी कि झारखण्ड सरकार अगर मांगों को नहीं मानती है तो रांची में 08 मार्च से राज्यव्यापी अनिश्चितकालीन धरना दिया जाएगा।

इस दौरान प्रदेश कोषाध्यक्ष अजय यादव, उपाध्यक्ष राजेश राम, बिनोद रविदास, कोषाध्यक्ष मनोज पाण्डेय, सचिव राजेन्द्र प्रसाद, संगठन सचिव राजेश कुमार सिंह, दिलीप कुमार, कार्यालय सचिव सुरेश यादव, सरोज कुमार मेहता, प्रवक्ता दीपक कुमार सिंह, कार्यकारी अध्यक्ष भीमलाल यादव, चंद्रिका मेहता अलावा सैकड़ों की संख्या में होमगार्ड जवान मौजूद थे।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button