पुतिन को हत्यारा कहने के सवाल को हंसकर टाल गए बाइडेन

वाशिंगटन: अंतरराष्‍ट्रीय राजनीति में संबंधों को लेकर एक कहावत है कि ‘न कोई किसी का स्‍थाई दोस्‍त होता है, न कोई स्‍थाई दुश्‍मन।’ यह कहावत अमेरिकी राष्‍ट्रपति जो बाइडन ने वर्तमान में चरितार्थ कर दी है।

अमेरिकी राष्‍ट्रपति चुनाव के वक्‍त चुनाव में दखल को लेकर बाइडन ने रूसी राष्‍ट्रपति पुतिन को खबरदार किया था। इतना ही नहीं मार्च के महीने में उन्‍होंने पुतिन को हत्‍यारा तक कह दिया था।

जिनेवा में पुतिन से मुलाकात के पहले बाइडन से जब हत्‍यारा को लेकर सवाल हुआ, तब उन्‍होंने बहुत चतुराई से जबाव दिया।

बाइडन ने कहा था कि पुतिन को अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में कथित दखल की कीमत चुकानी होगी। इसी साक्षात्‍कार में उन्‍होंने पुतिन को एक हत्‍यारा यानी किलर की संज्ञा दी थी।

उनका यह बयान उस समय आया था, जब अमेरिकी इंटेलिजेंस रिपोर्ट के हवाले से कहा गया था कि अमेरिका में हुए राष्‍ट्रपति चुनाव में पुतिन ने हस्‍तक्षेप अभियान के जरिए चुनाव में छेड़छाड़ की कोशिश की है।

रिपोर्ट में रूस पर आरोप लगाया गया था कि वह पूर्व राष्ट्रपति डोनॉल्ड ट्रंप के पक्ष में चुनाव नतीजों को मोड़ने की कोशिश कर रहा है।

बेल्जियम में जब बाइडन से पूछा गया कि क्या वहां पुतिन को अब भी हत्यारा मानते हैं, तब उन्होंने इस सवाल को हंसी में टाल दिया।

बाइडन ने कहा कि हमारी अगली मुलाकात के पूर्व ये बातें बहुत मायने नहीं रखतीं। उन्‍होंने कहा कि मैंने अपने कार्यकाल में इस तरह के हमले बहुत सहे हैं।

बाइडन ने कहा कि अब हमकों इन हमलों से हैरानी नहीं होती। हम जिन लोगों के साथ काम करते हैं, जिनके साथ हमारे मतभेद होते हैं, उनके मियां-बीवी का रिश्‍ता तो नहीं होता।

कई मामलों में हम सहयोगी होते हैं और कई मामलों में विरोधी। उन्‍होंने कहा कि जहां तक इस तरह के शब्‍दावली के प्रयोग की बात है,तब मैं समझता हूं कि ये अमेरिकी कल्‍चर का हिस्‍सा है।

16 जून को रूस के राष्‍ट्रपति पुतिन और अमेरिकी राष्‍ट्रपति बाइडन की जिनेवा में मुलाकात हो रही है। यह बाइडन और पुतिन की पहली मुलाकात होगी।

यह मुलाकात उस समय में हो रही है, जब दोनों देशों के आपसी संबंध सबसे खराब दौर में है।

इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि रूस ने हाल में अमेरिका को उन देशों की सूची में डाल दिया है, जिसके संबंध दोस्‍ताना नहीं है। इतना ही नहीं दोनों देशों में कोई राजदूत नहीं है।

Back to top button