झारखंड: मेहंदी की चल रही थी रस्म, बारात निकलने ही वाली थी कि अचानक दूल्हे राजा पहुंच गए हवालात

धनबाद: घर में मेहंदी की चल रही थी रस्म। बारात निकलने ही वाली थी कि अचानक दूल्हे राजा गायब हो गए।

अब बिना दूल्हे की बारात कैसे निकले। इसी बीच परिजनों को सूचना मिली कि दूल्हा बेंगाबाद पुलिस की हिरासत में है।

खबर मिलने के बाद शादी के घर में आए मेहमानों में भी खलबली मच गई और शादी का माहौल फीका पड़ने लगा।

यह घटना बेंगाबाद थाना क्षेत्र के चपुआडीह गांव का है।

क्या है मामला

बताया जाता है कि शुक्रवार को चपुआडीह निवासी रामचंद्र ठाकुर के बेटे विजय ठाकुर की शादी बेंगाबाद के तेलोनारी पंचायत के बेलडीह गांव में भुनेश्वर ठाकुर की बेटी के साथ हाेनी थी।

लेकिन विजय का प्रेम-प्रसंग धनबाद के धैया की रहने वाली 22 वर्षीया छात्रा से चल रहा था।

दोनों का तीन साल पहले से ही मिलना-जुलना हो रहा था।  दोनों के बीच शादी करने के वादे भी हो चुके थे।

लेकिन घर वालों ने विजय की शादी उसकी प्रेमिका से नहीं कराकर बेलडीह गांव में दूसरी लड़की से तय कर दी थी।

शुक्रवार शाम 7 बजे बारात निकलने ही वाली थी कि इसकी भनक प्रेमिका को लग गई।

फिर वह बेंगाबाद चौक पहुंची और फोन करके लड़के को मिलने के लिए बुलाया।

प्रेमिका का फोन आते ही विजय होश खो बैठा और अपने परिजनों से कपड़ा लेने की बात कहकर बेंगाबाद चौक पहुंच गया।

इसी बीच छात्रा पुलिस को जानकारी दे चुकी थी। जैसे ही विजय वहां पहुंचा, पुलिस ने उसे व छात्रा को अपनी हिरासत में ले लिया।

थाने में घंटों चला हाई वोल्टेज ड्रामा, प्रेमी-प्रेमिका दोनों हिरासत में

घटना की खबर सुनते ही दूल्हा के परिजन आनन-फानन में थाना पहुंचे, वहीं जानकारी होने पर धनबाद धैया की छात्रा की मां भी बेंगाबाद थाना पहुंच गई।

जहां उन्होंने अपनी बेटी को समझाने का काफी प्रयास किया। लेकिन छात्रा ने मानने से साफ इनकार कर दिया।

उसकी जुबान पर एक ही बात थी कि वह विजय से प्रेम करती है और शादी भी उसी से करेगी।

इस बात को लेकर घंटों तक थाना परिसर में हाई वोल्टेज ड्रामा चला।  लोग किसी तरह दूल्हे को थाने से बाहर निकालने की फिराक में थे।

लेकिन पुलिस के आगे किसी की पैरबी नहीं चली। फिलहाल प्रेमी और प्रेमिका दोनों पुलिस हिरासत में हैं।

इस संबंध में थाना प्रभारी कमलेश पासवान ने कहा कि छात्रा की ओर से आवेदन मिलते ही कार्रवाई की जाएगी।

फिलहाल छात्रा की ओर से कोई लिखित शिकायत नहीं की गई है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button