इस्तीफे के बाद चंपई सोरेन को सता रहा इस बात का दुःख, इस्तीफे के बाद पहली बार चंपई सोरेन ने रखा अपना पक्ष

News Aroma Desk

Champai Soren Presented his side for the first time After Resignation: मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा देने के बाद शुक्रवार को अपने गृह जिला पहुंचे चंपई सोरेन (Champai Soren) ने मीडिया के सामने कहा कि उन्होंने पांच माह के अपने छोटे से कार्यकाल में झारखंड के हर वर्ग के हित को ध्यान में रख कर काम किया।

सभी समुदायों के लिए कोई न कोई योजना शुरू की। महिलाओं के लिए माई-कुई योजना लागू की। ‘CM अबुआ स्वास्थ्य बीमा योजना’ लाए। 200 यूनिट बिजली मुफ्त देने की योजना लागू की। जनजातीय और क्षेत्रीय भाषाओं के शिक्षकों की बहाली प्रक्रिया शुरू कराई, लेकिन अफसोस है कि अपने हाथों से नियुक्ति पत्र नहीं बांट सका।

राजनीति से जुड़े Media के सवालों पर सोरेन ने कहा कि वे कभी राजनीतिक बयानों पर टीका-टिप्पणी नहीं करते हैं। मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद चंपाई सोरेन पहली बार अपने विधानसभा क्षेत्र पहुंचे. यहां कांड्रा, गम्हरिया और आदित्यपुर में समर्थकों ने उनका गर्मजोशी से स्वागत किया. अपनों से मिलकर वे भावुक हो गए।

उन्होंने कार्यकर्ताओं और समर्थकों से कहा कि उनके हक और अधिकार के लिए शुरू की गई लड़ाई जारी रहेगी। उन्होंने तीसरी बार मुख्यमंत्री बने हेमंत सोरेन पर उनकी विरासत को आगे बढ़ाने का भरोसा जताया।

हमें Follow करें!