झारखंड : दो सर कटी लाश की हुई पहचान, मामले का पुलिस ने किया उद्भेदन, तीन गिरफ्तार

पाकुड़: महेशपुर पुलिस ने गत 30 मई को पकड़ीपाड़ा जोरिया में मिली तैरती दो सर कटी लाशों का बुधवार को खुलासा किया है। साथ ही संलिप्त तीनों आरोपी को साक्ष्य सहित गिरफ्तार किया है।

यह जानकारी एसपी मणिलाल मंडल ने आज संवाददाताओं को दी।

उन्होंने बताया कि पुलिस ने गत 30 मई को महेशपुर थाना क्षेत्र के पकड़ीपाड़ा जोरिया में तैरती दो सर कटी लाशें बरामद की थी। मृतकों के हाथों पर गुदे उनके नाम व कपड़ों के आधार पर पहचान की जा रही थी।

इसी दौरान थाना क्षेत्र के खारूटोला गाँव की चुड़की सोरेन ने दोनों की पहचान अपनी बड़ी बहन व बहनोई के तौर पर की।जो अमड़ापाड़ा थाना क्षेत्र के पोचोयबेड़ा गाँव के निवासी थे।

पुलिस ने उसके बयान पर मामला दर्ज किया था। उन्होंने बताया कि इस दोहरे हत्याकांड के मद्देनजर एसडीपीओ महेशपुर नवनीत एंथोनी हेम्बरम के नेतृत्व में एसआइटी का गठन किया था।

जिसने 72 घंटे के अंदर मामले का खुलासा करते हुए साक्ष्य सहित संलिप्त तीनों आरोपी को भी गिरफ्तार किया है।

उन्होंने बताया कि आरोपी मृतक नायकी टुडू व मृतका सुरूज सोरेन के सगे भतीजे हैं।

जिन्होंने अपने निस्संतान चाचा चाची की तीस बीघा जमीन हड़पने की नीयत से उनकी हत्या कर दी और साक्ष्य छुपाने की गरज से उनके सर काट दिए।फिर दोनों लाशों को महेशपुर थाना क्षेत्र के पकड़ीपाड़ा जोरिया में फेंक दिया।

साथ ही उनके कटे सर को बोरे में भर कर पत्थर से बांध कर नदी में डुबो दिया।क्योंकि मृतका अपनी बहन का बेटा मताल हेम्बरम को अपने साथ रख रही थी और उसी के नाम अपनी संपत्ति लिख देना चाहती थी।

उन्होंने बताया कि इस बावत गत 27 मई को गाँव में पंचायती भी हुई थी। जिसमें मौखिक फैसला हुआ था कि वे लोग जब तक जिंदा रहेंगे माताल उनकी देखभाल व खेतों की जोत आबाद करेगा।

उसके बाद हमारी सारी जायदाद का वारिस माताल ही बनेगा। इस सिलसिले में लिखा पढ़ी के लिए एक जून की तारीख भी तय की गई थी। जो मृतकों के भतीजों को रास नहीं आया और उन्होंने उसके पहले ही दोनों को ठिकाने लगा दिया।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button