झारखंड

झारखंड : राज्य खाद्य आयोग के अध्यक्ष ने इस जिले के DSE को Show Cause किया, जानें वजह

पलामू : राज्य के अत्यंत पिछड़े जिलों में शामिल पलामू जिले में मनातू प्रखंड के तेलियादोहर स्थित उत्क्रमित प्राथमिक विद्यालय (Upgraded Primary School) में एक ही कमरे में 5 कक्षाएं चलाई जा रही हैं, वहीं मध्याह्न भोजन (Mid-day Meal) से संबंधित में मेन्यू (Menu) का डिस्प्ले भी स्कूल में नहीं किया जा रहा है। यह बात स्कूल गई राज्य आयोग की टीम द्वारा स्कूल की जांच के क्रम में उजागर हुई।

आयोग ने जांच के दौरान पाया कि विद्यालय में 20 बच्चे उपस्थित हैं, जबकि 26 बच्चों का मध्याह्न भोजन (Mid-day Meal) बन रहा है, वहीं उपस्थिति पंजी में उपस्थित बच्चों की संख्या 39 दर्शायी गई है, जबकि स्कूल के रजिस्टर में 136 बच्चों का नाम अंकित है।

स्वाभाविक है कि 136 की संख्या दिखाकर 136 बच्चों का मध्याह्न भोजन (Mid-day Meal) स्कूल में लिया जा रहा होगा।

स्कूल में पाई गई इस गड़बड़ी के लिए खाद्य आयोग के अध्यक्ष ने जिला शिक्षा अधीक्षक से स्पष्टीकरण (show cause) मांगा है।

साथ ही उनसे पूछा गया है कि स्कूल में अधिक संख्या दिखाकर मध्याह्न भोजन (Mid-day Meal) से संबंधित खाद्यान्न कि अधिक आवंटन क्यों लिया जा रहा है? अधिक खाद्यान्न उठाने वाले व्यक्ति को चिन्हित कर उनसे रिकवरी कराना सुनिश्चित कराएं।

ऐसा नहीं किए जाने पर आयोग जिला शिक्षा अधीक्षक (DES) के खिलाफ कार्रवाई को बाध्य होगी।

राज्य खाद्य आयोग आयोग की टीम इन दिनों पलामू जिले के दौरे पर है। आयोग के अध्यक्ष हिमांशु शेखर चौधरी व सदस्य शबनम परवीन ने गुरुवार को मनातू प्रखंड क्षेत्र स्थित स्कूल, आंगनबाड़ी केंद्र, पीडीएस दुकान का औचक निरीक्षण कर वहां की वस्तुस्थिति से अवगत हुए।

अध्यक्ष एवं सदस्य लंगेया गांव पहुंचकर आदिम जनजाति परिवार के सदस्यों से भी मुलाकात की और उन्हें मिलने वाले सरकारी लाभों की जानकारी ली।

खासकर खाद्य सुरक्षा से संबंधित लाभों की जानकारी ली। साथ ही सभी लोगों के बीच खाद्य सुरक्षा अधिनियम (Food Security Act) से संबंधित प्रावधानों की जानकारी दी गयी।

आयोग की टीम ने तेलियादोहर गांव में ही आंगनवाड़ी केंद्र का भी औचक निरीक्षण किया

आयोग के अध्यक्ष एवं सदस्य ने मनातू के तेलियादोहर गांव में ही आंगनवाड़ी केंद्र का भी औचक निरीक्षण किया। उन्होंने पाया कि आंगनवाड़ी केंद्र में बच्चे अध्ययन कर रहे हैं।

सेविका सुल्ताना परवीन बच्चों की कक्षाएं ले रही थीं। आयोग के अध्यक्ष हिमांशु शेखर चौधरी ने सेविका एवं उपस्थित बच्चों से बातचीत कर उनके पढ़ाई से संबंधित एवं सेविका से आंगनवाड़ी क्षेत्र में गर्भवती, धात्री महिलाओं को मिलने वाली पोषक आहार के संबंध में जानकारी ली।

उन्होंने पाया कि इस केंद्र में 12 गर्भवती माताएं (Pregnant Mothers) एवं 13 धात्री महिलाएं (Lactating Women) पंजीकृत हैं। वहीं 36 बच्चे नामांकित है।

सेविका ने बताया कि नियमित रूप से 20 बच्चे आते हैं। उन्होंने आंगनवाड़ी केंद्र में रखे पोषाहार (Nutrition) को शीघ्र लाभुकों के बीच वितरण करने का निदेश दिया। बच्चे एवं लाभुकों ने बताया कि आंगनवाड़ी केन्द्र (Anganwadi Center) से उन्हें लाभ मिलता है।

आयोग के अध्यक्ष ने तेलियादोहर के ग्रामीणों से जन वितरण प्रणाली के दुकानदार से मिलने वाले राशन के संबंध में भी जानकारी ली। ग्रामीणों द्वारा कम राशन दिए जाने की शिकायत पर उन्होंने तत्काल जिला आपूर्ति पदाधिकारी एवं प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी (District Supply Officer and Block Supply Officer) को माप के अनुसार राशन उपलब्ध कराना सुनिश्चित कराने का निदेश दिया।

रंगेया गांव में रह रहे आदिम जनजाति परिवार के सदस्यों का भी हाल जाना

आयोग के अध्यक्ष एवं सदस्य मनातू प्रखंड के रंगेया गांव में रह रहे आदिम जनजाति परिवार के सदस्यों से मुलाकात कर उन्हें मिलने वाली खाद्यान्न/राशन की जानकारी ली।

उन्होंने रामअवतार परहिया, विंदा देवी, सुनीता देवी, सविता देवी से पूछा कि उन्हें प्रतिमाह एवं निर्धारित माप के अनुसार राशन मिलता है या नहीं ? इसपर सभी ने बताया कि उन्हें निर्धारित मात्रा में खाद्यान्न दिया जाता है।

उनके द्वारा कभी-कभी दो माह पर राशन मिलने की बातें भी कही गयी। आयोग के अध्यक्ष ने जिला आपूर्ति पदाधिकारी (District Supply Officer) को सुविधाजनक एक तिथि निर्धारित कर खाद्यान्न वितरण का निदेश दिया।

जिला आपूर्ति पदाधिकारी ने तत्काल कार्रवाई करते हुए वहां रह रहे आदिम जनजाति के परिवारों के लिए प्रत्येक माह के15 से 20 तारीख के बीच खाद्यान्न वितरण (Food Distribution) के लिए समय निर्धारित किया।

आयोग के अध्यक्ष एवं सदस्य ने अपने दौरे के क्रम में मनातू के शिवकेश्वर गिरी के जन वितरण प्रणाली दुकान (Public Distribution System Shop) की जांच की।

उन्होंने पाया कि वहां खाद्यान्न रखे हुए हैं। इस संबंध में जानकारी देने पर दुकानदार ने बताया कि उनके द्वारा राशन की वितरण की जा रही है।

आयोग की टीम ने स्थानीय लोगों से भी राशन मिलने में समस्या या कोई शिकायत की जानकारी प्राप्त की। स्थानीय लोगों ने बताया कि उन्हें उचित मात्रा में एवं समय के साथ राशन उपलब्ध करा दिए जाते हैं। राशन लेने के दौरान उन्हें रसीद भी दी जाती है।

निरीक्षण के दौरान खाद्य आयोग (Food Commission) के अध्यक्ष हिमांशु शेखर चौधरी, सदस्य शबनम परवीन के साथ-साथ प्रोग्रामर संदीप कुमार, स्टेनोग्राफर जियाउर रहमान, जिला आपूर्ति पदाधिकारी शब्बीर अहमद, जिला शिक्षा पदाधिकारी-सह- जिला शिक्षा अधीक्षक उपेंद्र नारायण, मनातू के प्रखंड विकास पदाधिकारी सुनील प्रकाश सहित अन्य अधिकारी एवं कर्मी उपस्थित थे।

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker