RANCHI : मैं कपड़े चेंज करके आ रही हूं… पति से यह कहकर ट्रेन के टॉयलेट में घुसी महिला हो गयी लापता

रांची/धनबाद : यह घटना मंगलवार की शाम रांची से लखीसराय के लिए चली मौर्य एक्सप्रेस के कोच नंबर एस-7 में हुई है।

वह साल 2019 के अंत में हुई अपनी शादी के बाद ससुराल से रांची स्थित अपने मायके आने के बाद पहली बार लखीसरायत स्थित ससुराल लौट रही थी। उसे लेने उसका पति आया था।

वही अपने साथ इस ट्रेन से उसे वापस अपने घर ले जा रहा था। ट्रेन धनबाद स्टेशन पहुंच चुकी थी। रात के 10 बज रहे थे।

तभी महिला ने पति से कहा, “मैं कपड़े बदलने टॉयलेट जा रही हूं”। वह गयी। 10 मिनट बीत गये, नहीं लौटी। पति उसे ढूंढने टॉयलेट के पास गया। महिला टॉयलेट में नहीं थी। वह लापता हो गयी।

महिला के पति लखीसराय निवासी अजीत कुमार ने मामले की शिकायत धनबाद रेल पुलिस से की है।

पुलिस मामले की छानबीन कर रही है। अजीत कुमार ने पुलिस को बताया कि वह एक कंपनी में सेल्स का काम करते हैं।

साल 2019 के अंत में उनकी शादी रांची के कांके रोड स्थित जवाहर नगर निवासी महिला से हुई थी।

शादी के बाद उनकी पत्नी लखीसराय से रांची स्थित अपने मायके आ गयी थी।

उसके बाद अजीत मंगलवार को पहली बार अपनी पत्नी को मायके से विदा कराकर अपने साथ लखीसराय स्थित अपने घर ले जा रहे थे।

पत्नी अपने पति लखीसराय निवासी अजीत कुमार के साथ 12 जुलाई की शाम रांची स्टेशन पर मौर्य एक्सप्रेस की एस-7 बोगी (बर्थ नंबर 25 और 28) में सवार हुई थी।

ट्रेन रात करीब 10 बजे जब धनबाद स्टेशन पहुंची, तो पत्नी ने अजीत से कहा कि वह कपड़े बदलने के लिए टॉयलेट जा रही है।

10 मिनट के बाद भी जब पत्नी नहीं लौटी, तो अजीत उसे ढूंढने टॉयलेट के पास गये। महिला टॉयलेट में नहीं थी। इसी बीच ट्रेन चलने लगी।

जब ट्रेन कुमारधुबी पहुंची, तो अजीत ट्रेन से उतर गये और धनबाद लौटे। अजीत ने बताया कि पत्नी के मोबाइल में सिम कार्ड नहीं था।

महिला के मोबाइल से उसके घरवालों ने सिम कार्ड निकाल लिया था। वह पति के मोबाइल के हॉटस्पॉट से किसी से व्हाट्सएप चैटिंग और कॉल कर रही थी।

व्हाट्सएप चैटिंग होने के कारण पुलिस इसे ट्रेस नहीं कर पा रही है। मोबाइल में सिम कार्ड नहीं होने के कारण उसका लोकेशन भी नहीं मिल रहा है।

धनबाद स्टेशन पर मौर्य एक्सप्रेस के आने और जाने के बीच के सीसीटीवी फुटेज की भी जांच की गयी, लेकिन महिला ट्रेन से उतरती नजर नहीं आयी।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button