झारखंड

गुमला में अधिकारियों के आश्वासन पर ग्रामीणों ने वापस लिया वोट वहिष्कार का फैसला

यदि कोई बीमार हो जाय तो ईलाज के लिए भी सोंचना पड़ता है

गुमला: घाघरा प्रखंड क्षेत्र के बाराडीह के ग्रामीणों द्वारा पंचायत चुनाव का बहिष्कार (Panchayat Election Boycott) की घोषणा के बाद प्रखंड एवं पुलिस प्रशासन शुक्रवार को ग्रामीणों के साथ बैठक की।

ग्रामीणों ने मौके पर पहुंचे प्रखंड विकास पदाधिकारी विष्णुदेव कच्छप एवं थाना प्रभारी अभिनव कुमार से अपनी पीड़ा सुनाते हुए कहा कि वर्षो से घोडाटांगर होते हुए करीब चार किलोमीटर सड़क की स्थिति अत्यंत जर्जर है।

फलस्वरूप बरसात तो क्या, सालों भर यहां के ग्रामीणों को प्रखंड मुख्यालय पहुंचने के लिए भारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

थाना प्रभारी अभिनव कुमार भी ग्रामीणों को समझाया बुझाया

यदि कोई बीमार हो जाय तो ईलाज के लिए भी सोंचना पड़ता है। हमेशा इस रोड में दुर्घटना की संभावना बनी रहती है।

पदाधिकारियों ने ग्रामीणों को समझाते हुए कहा कि फिलहाल चुनाव से पहले सड़क का बनना मुमकिन नही है। चुनाव बाद आधा किलोमीटर पीसीसी सड़क बनना है।

सड़क की स्थिति से जिले के अधिकारी भी वाकिफ है। बीडीओ ने ग्रामीणों का आश्वासन दिया कि पंचायत चुनाव बाद संबंधित अधिकारियों से मिल कर सड़क निर्माण के लिए उनके द्वारा पहल किया जाएगा।

थाना प्रभारी अभिनव कुमार (Police Station Abhinav Kumar) भी ग्रामीणों को समझाया बुझाया। अंतत: अधिकारियों के आश्वासन पर ग्रामीण वोट के लिए राजी होते हुए पंचायत चुनाव वहिष्कार का निर्णय वापस ले लिया ।