पेपर लीक मामले को लेकर हंगामे के साथ शुरू हुआ विधानसभा का बजट सत्र, फिर…

News Aroma Desk

Jharkhand Vidhan Sabha Budget Session: झारखंड विधानसभा (Jharkhand Assembly) के बजट सत्र की शुरुआत हंगामे के साथ हुई है।

झारखंड स्टाफ सेलेक्शन कमीशन (JSSC) की CGL (Combined Graduate Level) परीक्षा के पेपर लीक को लेकर BJP के विधायकों ने सदन के अंदर और बाहर जोरदार प्रदर्शन किया। हंगामे के बीच ही वित्त मंत्री डॉ रामेश्वर उरांव ने 4981 करोड़ का तृतीय अनुपूरक बजट पेश किया।

शुक्रवार सुबह जैसे ही सदन की कार्यवाही शुरू हुई, BJP विधायक अमित मंडल ने स्पीकर रबीन्द्रनाथ महतो से मांग की कि वे JSSC पेपर लीक घोटाले पर सरकार से सीबीआई जांच पर जवाब दिलाएं।

स्पीकर ने उनसे कहा कि हर मुद्दे पर बात होगी, लेकिन इसके बाद BJP विधायकों ने नारेबाजी शुरू कर दी। वे CBI जांच की मांग करते हुए वेल में पहुंच गये और नारेबाजी शुरू कर दी। हंगामा इतना बढ़ा कि स्पीकर ने सदन की कार्यवाही के लाइव टेलीकास्ट पर रोक लगा दी।

इस बीच नेता प्रतिपक्ष अमर बाउरी ने कहा कि छात्र आंदोलन कर रहे हैं, इसी सदन ने कदाचार रोकने के लिए कानून बनाया था। पेपर लीक की जांच के लिए राज्य सरकार अनुशंसा करे। JSSC-CGL 2023 के प्रश्न पत्र लाखों‍ रुपए में बिके हैं।

इधर कांग्रेस विधायक प्रदीप यादव ने कहा कि सिर्फ झारखंड के पेपर लीक के मामले की ही नहीं, देश में जहां-जहां प्रश्न पत्र लीक हुए हैं, सभी की जांच होनी चाहिए। अब तक 43 प्रतियोगी परीक्षाओं के प्रश्न पत्र लीक हो चुके हैं।

उन्होंने कहा कि अभी हाल ही में बुलडोजर बाबा के राज्य में उत्तर प्रदेश में पुलिस भर्ती की परीक्षा का भी प्रश्न पत्र लीक हुआ था।

इसके पहले, सदन की कार्यवाही शुरू होने से पहले भाजपा विधायकों ने विधानसभा के द्वार पर तख्तियां लेकर प्रदर्शन किया। JSSC-CGL परीक्षा की सीबीआई जांच की मांग पर उन्होंने सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। इसके बाद वे कार्यवाही शुरू होने के पहले सदन के बाहर ही धरने पर बैठे रहे।

बता दें कि बीते 28 जनवरी को JSSC-CGL की परीक्षा हुई थी। लेकिन परीक्षा खत्म होने पहले ही यह पता चल गया था कि प्रश्न पत्र लीक हो चुका है। इसके बाद आयोग ने उस परीक्षा को रद्द कर दिया था।

हमें Follow करें!

x