बिहार

कुख्यात नक्सली कमांडर संदीप यादव के शव का मेडिकल बोर्ड ने किया पोस्टमार्टम

अंतिम संस्कार पैतृक गांव बांकेबाजार के लुटुआ थाना के बाबूरामडीह गांव में होगा

गया: प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा (माओवादी) के सेंट्रल कमेटी के सदस्य और बिहार प्रभारी संदीप यादव (Sandeep Yadav) उर्फ विजय यादव उर्फ छोटे सरकार के शव को गया के अनुग्रह नारायण मगध मेडिकल कॉलेज सह अस्पताल परिसर में स्थित पोस्टमार्टम कक्ष में दंडाधिकारी की देखरेख में मेडिकल बोर्ड द्वारा गुरुवार दोपहर को हुई।

संदीप यादव की मौत बुधवार को हुई। बुधवार की रात चार अज्ञात लोगों ने संदीप का शव उसके पैतृक गांव बांकेबाजार के लुटुआ थाना क्षेत्र अंतर्गत बाबूरामडीह गांव में चबूतरे पर रखकर लौट गए थे।

सीआरपीएफ के बिहार चैप्टर के आईजी अमित कुमार के निर्देश पर सीआरपीएफ के जवानों ने जिला पुलिस के साथ संदीप यादव के शव को बुधवार की देर रात गया के लिए निकले।कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच गुरूवार को संदीप यादव का शव मेडिकल कॉलेज लाया गया।

नक्सली कांडों में संदीप यादव की संलिप्तता थी

एसएसपी हरप्रीत कौर ने कहा कि दंडाधिकारी के देखरेख में शव का पोस्टमार्टम किया गया। पोस्टमार्टम की पूरी प्रक्रिया की वीडियोग्राफी कराई गई है।

एसएसपी हरप्रीत कौर के अनुसार शव को पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को अंतिम संस्कार के लिए सौंप दिया गया है।

उन्होंने कहा कि शव का अंतिम संस्कार परिजन अपने गांव में करने की बात कही है। एसएसपी ने आगे कहा कि संदीप यादव की मौत का अधिकृत कारण पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने से स्पष्ट हो पाएगा।

मगध रेंज के आईजी बिनय कुमार ने बताया कि बाबूरामडीह गांव में काफी संख्या में पुलिस बल की तैनातगी की गई है। साथ ही सीआरपीएफ और कोबरा बटालियन के जवानों को जिला पुलिस की मदद के लिए लगाया गया है।

उल्लेखनीय है बिहार, झारखंड सहित पांच राज्यों की पुलिस को काफी अर्से से संदीप यादव की तलाश थी। आईजी, सीआरपीएफ अमित कुमार के अनुसार लगभग पांच सौ से अधिक नक्सली कांडों में संदीप यादव की संलिप्तता थी।

संदीप यादव पर बिहार सरकार ने पांच लाख और झारखंड सरकार ने बीस लाख जिंदा या मुर्दा पकड़ने पर घोषित कर रखा था।

कुल 83 लाख रुपया संदीप यादव के ऊपर सरकार और केंद्रीय एजेंसियों ने इनाम घोषित कर रखा था।