दुल्हन की तलाश में है 2 फीट का व्यक्ति, मुख्यमंत्री और पुलिस से मांगी मदद

मुजफ्फरनगर (उत्तर प्रदेश): अजीम मंसूरी महज दो फीट के हैं और शादी करने की इच्छा रखते हैं। पर कद उनके इस ख्वाहिश के आगे मुश्किल खड़ी कर रहा है।

उन्होंने इस बाबत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से संपर्क करने की कोशिश की, यहां तक कि पुलिस से भी संपर्क कर उनकी समस्या को सुलझाने में मदद करने के लिए कहा।

पुलिस भी अचरज में है कि कैसे उनकी समस्या को सुलझाया जाए। 26 वर्षीय अजीम मंसूरी के साथ समस्या यह है कि वह अपने लिए दुल्हन नहीं खोज पा रहा है और शादी करने के लिए बेताब है।

अजीम सिर्फ दो फीट लंबा है और यद्यपि वह अपनी कॉस्मेटिक की दुकान से एक अच्छी राशि कमाते हैं, लेकिन कोई भी लड़की उनसे शादी करने के लिए तैयार नहीं है।

पिछले साल, अजीम उप-मंडल मजिस्ट्रेट (एसडीएम) से मदद लेने के लिए कैराना पुलिस स्टेशन गए।

कैराना एसएचओ प्रेमवीर राणा ने कहा, उन्होंने हमारे माध्यम से एसडीएम को अपने लिए लड़की की तलाश के लिए एक पत्र लिखा।

फिर, उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भी लिखा, लेकिन कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली।

जब शादी की गुहार लगाने महिला थाने पहुंचा 3 फुट 2 इंच का अजीम मंसूरी, जानें पूरा मामला - young man reached the police station to get the wedding recommendation - UP Punjab Kesari

शामली कोतवाली के एसएचओ सतपाल सिंह ने कहा, वह एक सप्ताह पहले हमारे पास दुल्हन को खोजने के अनुरोध के साथ आया था।

उनका कहना है कि सार्वजनिक सेवा करना और उनके लिए दुल्हन खोजना हमारा कर्तव्य है। हम नहीं जानते कि क्या करना है। लेकिन हम देखेंगे कि क्या किया जा सकता है।

इस बीच, अजीम ने कहा, मैं रात को सो नहीं सकता। मैं इतने लंबे समय से कोशिश कर रहा हूं। क्या यह समय मेरे लिए नहीं है कि मैं किसी के साथ अपनी जिंदगी को साझा कर सकूं? मैं रिजेक्शन से आहत हूं।

26 साल के Azim Mansuri की नहीं हो रही शादी, महिला थाने में लगाई गुहार

कैराना स्थित परिवार से छह भाई-बहनों में सबसे छोटे, अजीम को स्कूल में ताने और अपमान का सामना करना पड़ा है।

उन्होंने कक्षा पांच में स्कूल छोड़ दिया और अपने एक भाई के स्वामित्व वाले सौंदर्य प्रसाधन की दुकान पर सहायता करना शुरू कर दिया।

उनके माता-पिता ने उनके लिए एक उपयुक्त दुल्हन खोजने की कोशिश की, लेकिन असफल रहे।

उनके जीजाजी कासिफ ने कहा, लोग आते हैं, लेकिन उसकी ऊंचाई के कारण उसे ठुकरा देते हैं।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button