सुकून लेकर आ सकता है जून, ढलान पर होगी दूसरी लहर

नई दिल्ली: कोरोना के खिलाफ जंग में जून का महीना कुछ सुकून साथ लेकर आएगा। विशेषज्ञों को जून में कोविड-19 से उबरने वाले मरीजों की संख्या में सुधार और नए मामलों तथा मृत्यु दर में कमी का ट्रेंड बरकरार रहने की उम्मीद है।

यही नहीं, जून में देश को 12 करोड़ से अधिक वैक्सीन मिलने से टीकाकरण अभियान का रफ्तार पकड़ना भी तय माना जा रहा है।

जून में भारत में कोविड-19 से बचाव में कारगर टीके की लगभग 12 करोड़ नई खुराक उपलब्ध होंगी।

इनमें से लगभग 6.09 करोड़ खुराक राज्यों और केंद्र-शासित प्रदेशों को स्वास्थ्यकर्मियों, अग्रिम पंक्ति के कर्मचारियों और 45 से अधिक उम्र के लोगों के टीकाकरण के लिए केंद्र सरकार की ओर से मुफ्त में मुहैया कराई जाएंगी।

वहीं, 5.86 करोड़ से ज्यादा खुराक राज्यों और केंद्र-शासित प्रदेशों की सरकारों के अलावा निजी अस्पताल सीधे तौर पर खरीद सकेंगे।

भारत में बीते तीन हफ्तों से कोविड-19 के नए मामलों में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है।

नौ मई को जहां देश में 403738 नए संक्रमितों की पहचान हुई थी, वहीं 30 मई को यह आंकड़ा घटकर 165553 पर पहुंच गया।

आईआईटी कानपुर और हैदराबाद के वैज्ञानिकों ने जून में दूसरी लहर के ढलान पर होने का अनुमान जताया है।

उनका दावा है कि माह के अंत में देश में कोरोना के रोजाना औसतन 20 हजार केस आने लगेंगे। जुलाई बीतते-बीतते दूसरी लहर थम जाएगी।

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक बीते एक हफ्ते में 24 राज्यों और केंद्र-शासित प्रदेशों में कोरोना के सक्रिय मामलों में लगातार कमी देखी जा रही है।

अभी देश में सक्रिय मामलों की संख्या 21.14 लाख के करीब है। यह नौ मई के मुकाबले 35 फीसदी कम है, जब भारत में 37.36 लाख सक्रिय मामले मौजूद थे।

औसत साप्ताहिक पॉजिटिविटी दर में भी बड़ी गिरावट आई है। 29 अप्रैल से पांच मई की अवधि में यह 21.5 फीसदी थी। 20 से 26 मई के बीच इसे 10.4 प्रतिशत दर्ज किया गया।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button