strict Six-Day LOCKDOWN : देश में यहां बढ़ रहे कोरोना के मामले, इस जिले में लगाया गया 6 दिन का Lockdown

मुंबई: यूं तो मुंबई में फ़िलहाल कोरोना संक्रमण के मामले कम होते नज़र आ रहे हैं पर राज्य के कई शहरों में कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं।

सरकार ने भी लोगों को दैनिक आवाजाही की छूट दे दी है और आम जिंदगी पटरी पर आने लगी है।

इस बीच प्रदेश के एक जिले में संक्रमण के मामले एक बार फिर तेजी से बढ़ने लगे हैं।

तेजी से बढ़ते संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए प्रशासन ने छह दिन का सख्त लॉकडाउन लगाने का निर्णय लिया है।

डीएनए ने एक रिपोर्ट के हवाले से बताया कि प्रदेश में सांगली सिटी और ग्रामीण क्षेत्रों में संक्रमण की दर में एक बार फिर उछाल आया है।

इसे नियंत्रित करने के लिए प्रशासन ने बुधवार यानी आज से पूरे सांगली जिले में सख्त लॉकडाउन लगा दिया है। इस संबंध में 13 जुलाई को जिला कलेक्टर अभिजीत चौधरी ने आदेश जारी कर दिए।

सांगली मिरज कुपवाड नगर निगम के मुंसिपल कमिश्नर नितिन कपडनी ने बताया कि हम संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए सख्ती से लॉकडाउन लागू करने जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि जिला कलेक्टर इस संबंध में आदेश जारी कर चुके हैं और ये पूरे जिले में लागू हो गया है।

सांगली जिले में प्रतिदिन 1,000-1,200 कोरोना के मामले दर्ज हो रहे हैं। इस कारण जिला प्रशासन ने सख्त लॉकडाउन लगाने का निर्णय लिया है।

नए आदेश के मुताबिक अगले छह दिनों तक जिले में गैर जरूरी सेवाओं पर पूरी तरह रोक रहेगी।

गैर जरूरी सेवाओं से जुड़ी सभी दुकानें बंद रहेंगी। जरूरी सेवाओं से जुड़े क्षेत्रों को लॉकडाउन से छूट रहेगी।

नितिन कपडनी ने कहा कि लॉकडाउन में हमने दुकानदारों को होम डिलीवरी के लिए प्रोत्साहित किया है।

दुकान पर अगर ग्राहक आता है तो कोविड प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन किया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि सप्ताह के सभी दिनों में सिर्फ आधिकारिक सब्जी मंडियों को सुबह सात बजे से शाम सात बजे तक खोलने की अनुमति दी गई है। साप्ताहिक बाजार पूरी तरह बंद रहेंगे।

जिला अधिकारी के आदेश में सख्ती से कहा गया है कि सब्जी और फल विक्रेता आधिकारिक बाजारों में ही अपनी गतिविधियां संचालित करें।

इसके अलावा स्थानीय स्व-सरकारी निकायों को फेरीवालों को अपने सामान को ग्राहकों तक पहुंचाने में मदद करनी चाहिए।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button