चुनाव से पहले दीदी को छोड़कर जाने वाले, अब वापस लौटने की लगा रहे गुहार

कोलकाता: पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव होने के बाद तृणमूल कांग्रेस में बागियों के लौटने का क्रम शुरू हो चुका है।

सोनाली गुहा और सरला मुर्मू के बाद टीएमसी बागी दीपेंदू बिस्वास ने भी घर वापसी की गुहार लगा दी है। बिस्वास ने कहा है कि भाजपा में शामिल होना ‘बुरा’ फैसला था।

बंगाल चुनाव में टीएमसी से टिकट न मिलने के कारण बीजेपी में शामिल होने वाले बिस्वास उत्तर 24 परगना बशीरहाट दक्षिण निर्वाचन क्षेत्र से पूर्व विधायक हैं।

बनर्जी को लिखे पत्र में, बिस्वास ने कहा कि उन्होंने पार्टी छोड़कर एक ‘बुरा फैसला’ लिया और वापस लौटना चाहते हैं।

उन्होंने कहा कि पद छोड़ने का उनका निर्णय ‘भावनात्मक’ था और उन्हें ‘निष्क्रिय’ होने का डर था। उन्होंने बशीरहाट दक्षिण निर्वाचन क्षेत्र के लिए काम करने की इच्छा भी व्यक्त की।

चुनाव से पहले पार्टी छोड़ने वाले कई टीएमसी नेता विधानसभा चुनावों में पार्टी प्रचंड जीत के बाद एक बार फिर बनर्जी के दरवाजे पर दस्तक दे रहे हैं।

टीएमसी की पूर्व विधायक सोनाली गुहा ने हाल ही में बनर्जी को पत्र लिखकर उनसे पार्टी छोड़ने के लिए माफी मांगी और उन्हें पार्टी में वापस शामिल करने का आग्रह किया।

गुहा द्वारा सोशल मीडिया पर शेयर किए गए पत्र में उन्होंने कहा कि भावुक होने के बाद उन्होंने पार्टी छोड़ दी।गुहा ने लिखा ‘मैं टूटे हुए मन से यह लिख रही हूं कि मैंने भावुक होकर दूसरी पार्टी में शामिल होने का गलत फैसला लिया।

उधर, मालदा जिला परिषद सदस्य सरला मुर्मू और उत्तर दिनाजपुर के विधायक अमोल आचार्य ने कहा कि वे भी पार्टी में लौटने के इच्छुक हैं।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button