वो विमान हादसे, जिनमें देश जार-जार रोया

नई दिल्ली: तमिलनाडु के कुन्नूर में बुधवार को चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत के हेलीकॉप्टर के दुर्घटनाग्रस्त पर पूरा देश सकते में है।

इस दुर्घटना ने उन हवाई हादसों की याद ताजा कर दी, जिसमें अति विशिष्ट लोगों की जान जा चुकी है। इन हादसों में देश जार-जार आंसू बहा चुका है।

दोरजी खांडू

यह हादसा अप्रैल 2011 में हुआ था। अरुणाचल प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री दोरजी खांडू चार सीटों वाले एक इंजन के पवन हंस हेलीकॉप्टर एएस-बी350-बी3 में सवार थे।

यह हेलीकॉप्टर तवांग से उड़ान भरने के 20 मिनट बाद ही लापता हो गया था। पांचवें दिन इसका मलबा मिला था।

वाईएस राजशेखर रेड्डी

यह वाकया सितंबर 2009 में हुआ था। आंध्र प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री वाईएस राजशेखर रेड्डी समेत पांच लोगों को लेकर रवाना हुआ हेलीकॉप्टर नल्लामाला वन क्षेत्र में लापता हो गया था।

इसका मलबा 3 सितंबर को कुरनूल से 74 किलोमीटर दूर रूद्रकोंडा पहाड़ी की चोटी पर मिला था।

ओपी जिंदल

अप्रैल 2005 में मशहूर इस्पात व्यवसायी और हरियाणा के तत्कालीन ऊर्जा मंत्री ओपी जिंदल हवाई हादसे का शिकार हो गए थे। इस हवाई हादसे में हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री बंशीलाल के पुत्र सुरिंदर सिंह और पायलट की भी मौत हो गई थी।

यह हेलिकॉप्टर हादसा तब हुआ जब यह लोग चंडीगढ़ से दिल्ली आ रहे थे। देश के अग्रणी उद्योगपतियों में जिंदल की गिनती होती थी। इसी साल फोर्ब्स ने जिंदल को दुनिया का 548वां सबसे धनी व्यक्ति बताया था।

जीएमसी बालयोगी

मार्च 2002 में लोकसभा के पूर्व अध्यक्ष जीएमसी बालयोगी की आंध्र प्रदेश के पश्चिमी गोदावरी जिले में हेलीकॉप्टर के दुर्घटनाग्रस्त होने पर मौत हो गई थी। दुर्घटना का कारण तकनीकी खामी को बताया गया था।

माधवराव सिंधिया

यह वाकया सितंबर 2001 का है। तत्कालीन कांग्रेस नेता माधवराव सिंधिया का उत्तर प्रदेश के मैनपुरी जिले की भोगांव तहसील के पास विमान हादसे में निधन हो गया था।

सिंधिया कानपुर जा रहे थे। उनके साथ छह अन्य लोग भी थे। इस हादसे में कोई भी व्यक्ति जीवित नहीं बचा था।

सुरेंद्रनाथ

जुलाई 1994 में पंजाब के तत्कालीन राज्यपाल सुरेंद्रनाथ की विमान हादसे में मौत हो गई थी। इस हादसे में उनके परिवार के नौ सदस्य भी मारे गए थे। उनके पास हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल का अतिरिक्त कार्यभार भी था। यह हादसा हिमाचल प्रदेश में हुआ था।

संजय गांधी

यह वाकया 23 जून, 1980 का है। तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के छोटे पुत्र संजय गांधी की विमान हादसे में मौत हो गई थी। संजय गांधी खुद विमान को उड़ा रहे थे।

मोहन कुमारमंगलम

मई 1973 में तत्कालीन केंद्रीय लौह, इस्पात और खानमंत्री मोहन कुमारमंगलम की मौत विमान हादसे में हुई थी। मोहन कुमारमंगलम का जन्म लंदन में हुआ था।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button