बिहार में कोरोना के 6,413 नए मरीज मिले, मकर संक्रांति पर रहेगी सख्ती

पटना: बिहार में पिछले 24 घंटे के दौरान 6,413 कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं। इस दौरान पटना में सबसे अधिक 2,014 कोरोना संक्रमितों की पुष्टि हुई है। राज्य में सक्रिय मरीजों की संख्या 28,659 पहुंच गई है।

बिहार स्वास्थ्य विभाग द्वारा बुधवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक, मंगलवार की तुलना में बुधवार को मिले मरीजों की संख्या में वृद्धि दर्ज की गई है।

मंगलवार को राज्य में 5,908 लोगों के कोरोना संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी, जबकि बुधवार को 6,419 नए कोरोना मरीजों की पहचान की गई है।

राज्य में बुधवार को मिले नए मरीजों में सबसे अधिक 2,014 मरीज पटना जिले में सामने आए, जबकि समस्तीपुर में 506, बेगूसराय में 194, भागलपुर में 121, दरभंगा में 142, पूर्वी चंपारण में 109, गया में 185, जमुई में 220, जहानाबाद में 133, कटिहार में 112, मधेपुरा में 127, मधुबनी में 117, मुंगेर में 143, मुजफ्फरपुर में 294, नालंदा में 177, पूर्णिया में 157, सहरसा में 108, सारण में 207, वैशाली में 134 तथा पश्चिम चंपारण में 110 नए मरीजों की पहचान हुई है।

विभाग के आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटे के दौरान 1 लाख 80 हजार 407 नमूनों की जांच की गई है।

इस बीच, राज्य में तीन संक्रमित लोगो की मौत भी हुई है। इस दौरान 2,802 संक्रमित संक्रमणमुक्त भी हुए है। राज्य में संक्रमितों की संख्या में वृद्धि होने के बाद रिकवरी रेट में भी लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है।

बुधवार को रिकवरी रेट 94.65 प्रतिशत दर्ज किया गया। राज्य में फिलहाल सक्रिय मरीजों की संख्या बढ़कर 28,659 तक पहुंच गई है।

इधर, स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि राज्य में सक्रिय मरीजों की संख्या भले ही बढ़ रही हो, लेकिन अधिकांश सक्रिय मरीज होम आइसोलेशन में हैं।

इस बीच, कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए पाबंदियों में कोई छूट नहीं देने का फैसला लिया गया है। मुख्य सचिव आमिर सुबहानी की अध्यक्षता में बुधवार को आपदा प्रबंधन समूह की हुई समीक्षा बैठक में राज्य के सभी जिलों को संक्रमण की दर पर नजर रखने को कहा गया है।

बैठक में मकर संक्रांति के मौके पर किसी भी सार्वजनिक स्थल पर भीड़ नहीं होने देने के निर्देश सभी जिलाधिकारियों को दिए गए हैं। बैठक में मकर संक्रांति को देखते हुए जिलों को कोरोना गाइडलाइन का सख्ती से पालन कराने का निर्देश दिया गया।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button