झारखंड के इन दो सरकारी अस्पतालों में लगेगी कोरोना वेरिएंट की पहचान करनेवाली मशीन, दूसरे राज्यों में नहीं भेजना पड़ेगा सैंपल

रांची : झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा है कि कोरोना का नया वेरिएंट चिंता का विषय है। इससे निपटने के लिए सरकार ने तैयारी शुरू कर दी है।

पत्रकारों से बातचीत करते हुए बन्ना गुप्ता ने गुरुवार को कहा कि रिम्स अस्पताल के अलावा एमजीएम मेडिकल कॉलेज जमशेदपुर में जल्द ही कोरोना वेरिएंट का पता लगाने के लिए जिनोम सीक्वेंसिंग मशीन लगायी जायेगी।

उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने दोनों जगहों पर मशीनें लगाने का आदेश दिया है। इससे हमें कोविड का सैंपल दूसरे राज्यों में भेजने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

कोरोना से लड़ने के लिए झारखंड के लोग तैयार हैं। यहां के लोग समझ चुके हैं कि इससे कैसे निपटना है। इसलिए, हर किसी के साथ से ही इस बीमारी पर काबू पाया जा सकता है।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के साथ बैठक में लोगों को आयुष्मान योजना का लाभ दिलाने, सदर हॉस्पिटल में बेहतर सुविधा के साथ अन्य बीमारियों के इलाज को लेकर भी बेहतर सुविधाएं मिलेंगी। बन्ना गुप्ता ने कहा, “हम डब्ल्यूएचओ, आईसीएमआर के अलावा सभी गाइडलाइन को फॉलो करेंगे, जिससे ओमिक्रॉन को फैलने से रोका जा सकेगा।”

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button