JAC मैट्रिक और इंटरमीडिएट के रिजल्ट पिछले साल की तुलना में होंगे बेहतर, तैयारी में जुटा शिक्षा विभाग

रांची: मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कोरोना संक्रमण को देखते हुए झारखंड एकेडमिक काउंसिल Jharkhand Academic Council (JAC) की ओर से आयोजित की जाने वाली मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षा को रद्द कर दिया है।

मैट्रिक और इंटरमीडिएट के रिजल्ट तैयार करने को लेकर मुख्यमंत्री ने शिक्षा विभाग के सचिव को निर्देश दिया है।

मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद विभाग रिजल्ट को तैयार करने की तैयारी में जुट गया है।

मैट्रिक व इंटरमीडिएट की परीक्षा रद्द होने के बाद अब तेजी से रिजल्ट तैयार करने की कोशिश की जा रही है। मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद जल्द से जल्द रिजल्ट देने की तैयारी की जा रही है।

इधर, गत दिनों जैक की ओर से ऑनलाइन शिक्षा अधिकारियों की बैठक की गई थी। बैठक में शिक्षा अधिकारियों से उनका मंतव्य मांगा गया था।

कुछ शिक्षा अधिकारियों ने मेल के माध्यम से जैक को अवगत कराया है।

इस बीच आंतरिक मूल्यांकन को आधार मानें, तो इस बार का मैट्रिक व इंटर का रिजल्ट पिछले साल की तुलना में बेहतर हो सकता है।

उल्लेखनीय है कि वर्ष 2020 के मैट्रिक परीक्षा में लगभग 75 प्रतिशत विद्यार्थी पास हुए थे।

वहीं, इंटरमीडिएट की परीक्षा में साइंस में 59 प्रतिशत विद्यार्थी पास हुए थे, जबकि आर्ट्स में 82.53 प्रतिशत व कॉमर्स में 77.37 प्रतिशत विद्यार्थी पास हुए थे।

संभावना जताई जा रही है कि मैट्रिक का रिजल्ट विद्यार्थियों के नौवीं की परीक्षा के आधार पर जारी किया जा सकता है। वहीं इंटरमीडिएट की परीक्षा का रिजल्ट 11वीं के आधार पर जारी किया जा सकता है।

बताया जाता है कि मैट्रिक और इंटरमीडिएट के रिजल्ट का आधार नौवीं और 11वीं के रिजल्ट को आधार बनाया जा सकता है।

Back to top button