भारत

तेज धूप या गर्मी में अचानक हीट स्ट्रोक हो जाए तो इस तरह बढ़ जाएगी परेशानी…

किसी भी उम्र में किसी को भी अधिक गर्मी या धूप प्रभावित कर सकती है। उसके कारण सेहत पर अनेक प्रकार की समस्याएं अचानक आ जाती है।

Safety from Heat Stroke: किसी भी उम्र में किसी को भी अधिक गर्मी या धूप प्रभावित कर सकती है। उसके कारण सेहत पर अनेक प्रकार की समस्याएं अचानक आ जाती है।

सामान्य रूप से तेज धूप में लगातार काम करने, लंबे समय तक धूप में चलने या किसी कारणवश धूप में रहने से Heat Stroke हो जाता है। फिर इससे होने वाली विकट समस्या है Heat Stroke।

तेज धूप या गर्मी में अचानक हीट स्ट्रोक हो जाए तो इस तरह बढ़ जाएगी परेशानी… Safety from Heat Stroke If you suddenly get heat stroke due to strong sunlight or heat, then the problem will increase in this way there are home remedies to avoid it.

यदि शरीर अधिक गर्मी पैदा करता है या सीमा से अधिक गर्मी अवशोषित करता है तो हाइपरथर्मिया (Hyperthermia) उच्च तापमान की बीमारी है। लू लगना इसी का एक रूप है। हीट स्ट्रोक को हीट स्ट्रोक या लू के नाम से भी जाना जाता है।

तेज़ धूप में बाहर रहने या बहुत देर तक धूप में रहने से शरीर की गर्मी संतुलन प्रणाली काम करना बंद कर देती है, जिससे हम Heat Stroke से पीड़ित हो जाते हैं।

क्या हैं हीट स्ट्रोक के लक्षण ?

चक्कर आना, सिरदर्द, सुस्ती और चक्कर महसूस होना, गर्मी के बावजूद पसीना नहीं आना, लाल त्वचा, शुष्क त्वचा, कमजोरी महसूस होना, मतली, उल्टी, सांस लेने में कठिनाई, हृदय गति में वृद्धि हीट स्ट्रोक के बाद के लक्षण हैं और फिर हीटस्ट्रोक होता है।

हीट स्ट्रोक से बचने के लिए क्या करें?

तेज धूप या गर्मी में अचानक हीट स्ट्रोक हो जाए तो इस तरह बढ़ जाएगी परेशानी… Safety from Heat Stroke If you suddenly get heat stroke due to strong sunlight or heat, then the problem will increase in this way there are home remedies to avoid it.

रोज सुबह योग करें, खासकर शीतली, शीतकारी और वायुसार। इसके साथ ही अन्य प्रकार के व्यायाम भी करें। लेकिन गर्मियों में ज्यादा व्यायाम करने से बचें।

दिन में कम से कम दो लीटर पानी पियें। जब आप बाहर जाएं तो अपने साथ पानी की बोतल रखें। पानी में खीरे के टुकड़े या सब्जा या जीरा डालें, ताकि पानी शरीर को ठंडा कर दे और गर्मी की समस्या न हो। यदि संभव हो तो फ्रिज के बजाय घर पर नल का पानी पियें।

50 से अधिक SPF वाले सनस्क्रीन के साथ बाहर निकलें, जो यूवीए और UVB किरणों से सुरक्षा प्रदान करता है। इसके अलावा, टोपी और धूप का चश्मा का प्रयोग करें। अगर स्कार्फ पहन रहे हैं तो वह कॉटन का बना होना चाहिए ताकि इससे त्वचा पर जलन न हो।

इसके अलावा टाइट कपड़े पहनने की बजाय ढीले, सूती कपड़े पहनें। पॉलिएस्टर, विस्कोस, क्रेप, नायलॉन आदि से बने कपड़े पहनने से बचें।

तेज धूप या गर्मी में अचानक हीट स्ट्रोक हो जाए तो इस तरह बढ़ जाएगी परेशानी… Safety from Heat Stroke If you suddenly get heat stroke due to strong sunlight or heat, then the problem will increase in this way there are home remedies to avoid it.

इस मौसम में अल्कोहलयुक्त, वातित या सोडायुक्त पेय पीने से बचें। इसकी जगह नींबू का शरबत, कोकम शरबत, छाछ, छाछ, करी पाउडर आदि पिएं। ये पेय पदार्थ शरीर के तापमान को संतुलित करने में मदद करते हैं। भूख लगने पर बाहर खाना खाते समय जगह को साफ रखें। जितना हो सके ज्यादा तैलीय, ज्यादा खट्टा और ज्यादा मीठा खाना खाने से बचना चाहिए।

ऐसे खाद्य पदार्थ गर्मी, पित्त बढ़ाने में सहायक होते हैं। कलिंगद, तरबूज, बेल, ताड़ जैसे फल खाएं। आम खाते समय उसे खाने से आधे घंटे पहले पानी में भिगो दें, फिर उसका सेवन करें।

आम में गर्मी कम करने के लिए ऐसा करें. रात को सोते समय दूध पियें। उस दूध में एक छोटा चम्मच गुलकंद मिलाएं और पी लें।

इसके अलावा पानी में चाय की पत्ती, अदरक, पुदीना, तुलसी आदि सामग्री डालकर उबाल लें और पानी को ठंडा कर लें। इस पानी और दूध को बराबर मात्रा में लेकर एक साथ पिएं, इससे शरीर को ठंडक मिलेगी।

लू लगने पर क्या करें?

तेज धूप या गर्मी में अचानक हीट स्ट्रोक हो जाए तो इस तरह बढ़ जाएगी परेशानी… Safety from Heat Stroke If you suddenly get heat stroke due to strong sunlight or heat, then the problem will increase in this way there are home remedies to avoid it.

अगर संभव हो तो दोपहर 12 बजे से 3 बजे के बीच धूप में जाने से बचें। लेकिन यदि संभव न हो तो उपरोक्त सभी उपाय करें ताकि गर्मी से किसी प्रकार की परेशानी न हो।

हालाँकि, यदि आप बाहर जाते हैं और लू से पीड़ित हैं, तो छाया में या वातानुकूलित कमरे में बैठें, जितना संभव हो उतने कपड़े हटा दें और अपने शरीर को गीले कपड़े से पोंछ लें।

ऐसे में हमें जल्द से जल्द शरीर से गर्मी को दूर कर रक्त संचार को सुचारु रखने की जरूरत है। गीला कपड़ा (Wet Cloth) का प्रयोग कर अतिरिक्त गर्मी के प्रभाव को धीरे-धीरे काम किया जाता है।

x