सिमडेगा में ग्रामीणों की जागरुकता से टली मॉब लिंचिंग की घटना

सिमडेगा: ठेठईटांगर थाना क्षेत्र कुड़पानी डीपाटोली में ग्रामीणों की जागरुकता से कारण मॉब लिंचिंग की एक घटना टल गयी।

12 जनवरी को कुड़पानी कॉलोनी टोली निवासी झरियो देवी अपने पति के साथ सामाजिक कार्यक्रम में भाग लेने के लिए कोनमेंजरा डीपाटोली गई थी।

डीपाटोली में कुछ ग्रामीणों ने डायन बिसाही का आरोप लगाकर झरियो देवी को मारपीट कर घायल कर दिया। इसके बाद घर के पास ही उसे पुआल रखकर आग के हवाले कर दिया।

किंतु गांव के ही कुछ लोगों ने जागरूकता और हिम्मत दिखाते हुए जलते हुए पुआल को हटाया और झरियो देवी को मौत के मुंह से निकाल लिया।

घटना की सूचना ग्रामीणों ने ठेठईटांगर थाना प्रभारी को दी। इसके बाद पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए घटना स्थल पर पहुंच कर झरियो देवी को सदर अस्पताल में भर्ती कराया।

सदर अस्पताल में प्राथमिक इलाज के बाद उसकी गंभीर स्थिति को देखते हुए उसे रांची रिम्स रेफर कर दिया गया। जिले के एसपी डॉक्टर शम्स तबरेज, एसडीपीओ ए डोडराई ने स्वयं एंबुलेंस से घायल महिला को रांची रिम्स भेजा।

उल्लेखनीय है कि चार जनवरी को डीपाटोली में एक महिला मलियाना डुंगडुंग की मौत साड़ी में आग पकडने के कारण हो गयी थी जिसके लिये सभी आरोपी झरियो देवी को ही जिम्मेवार मान रहे थे।

आरोपियों का मानना था कि झरियो देवी ने ही डायन बिसाही करके मलियाना डुंगडुंग को मार डाला है।

इधर घटना को लेकर पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए घटना में शामिल सभी छह आरोपी को गिरफ्तार कर लिया. जिले के एसपी डॉक्टर शम्स तबरेज ने बताया कि घटना में शामिल फ्लोरेंस डुंगडुंग, हेमंत टेटे, ज्योति टेटे, सिलब्रियूस डुंगडुंग, रवि सोरेंग और अमृत टेटे को गिरफ्तार कर लिया गया.

सभी कुडपानी डीपाटोली निवासी है। कड़ी पूछताछ के बाद सभी को जेल भेज दिया गया। ठेठईटांगर थाना में सभी गिरफ्तार आरोपियों के खिलाफ कांड संख्या 5/22, धारा 306 323, 324, 325, 504, 506, 34 एवं डायन प्रथा प्रतिषेध अधिनियम 3/4 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button