झारखंड में अब नहीं बढ़ेगा LOCKDOWN, CM हेमंत सोरेन ने अनलॉक पर मांगे सुझाव

रांची: Jharkhand Unlock झारखंड में कोरोना की दूसरी लहर आई तो देखते-देखते संक्रमण की स्थिति भयावह हो गई थी। प्रत्येक दिन मरीजों की संख्या कई गुना बढ़ रही थी।

सरकार जितने नए सामान्य, ऑक्सीजन या आइसीयू बेड की व्यवस्था कर रही थी, उससे कई गुना मरीज बढ़ जाते थे। ऐसी स्थिति में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने स्वयं कमान संभाली। युद्धस्तर पर लगातार अथक प्रयास किए।

स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह लागू कर कई सख्त निर्णय लिया गया। आवश्यक पाबंदियां लगाईं, जिसका बेहतर परिणाम सबके सामने है।

अब CM हेमंत सोरेन आंशिक लॉकडाउन यानि स्‍वास्‍थ्‍य सुरक्षा सप्‍ताह को खत्म करने के लिए अनलॉक (Jharkhand Unlock) की प्रक्रिया शुरू करने वाले हैं।

इसको लेकर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने आम लोगों से सुझाव मांगे हैं। जिसके बाद ट्विटर पर लोगों के जवाब आने शुरू हो गए हैं।

दर्जनों लोगों ने E-PASS व्यवस्था को खत्म कर देने का आग्रह किया है।

कुछ लोगों ने इसी आधार पर रोस्टर सिस्टम लागू करके दुकान खोलने की बात कही है। इनमें से कई लोगों ने सुझाव दिया कि अनलॉक में घर से बाहर निकलने की अनुमति उन्हें ही दी जाए जिन्होंने कोरोना का टीका ले लिया है।

इसको लेकर लोग अपने सुझाव दे रहे हैं। CM हेमंत सोरेन ने ट्विटर व फेसबुक के जरिए लोगों से अनलॉक व वन को लेकर सुझाव मांगे हैं।

सीएम ने ट्वीट कर कहा है कि साथियों, कैसा होना चाहिए अनलॉक 1 ? स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह में आपके दिए सहयोग एवं कोरोना वॉरीअर्ज़ के अथक मेहनत से हमने कोरोना के दूसरे लहर पर काबू पा लिया है।

Image

जीवन और जीविका के इस संघर्ष में अब हमारा ध्यान जीविका पर है। इसलिए आप अपने बहुमूल्य विचार कमेंट कर साझा करें कि कैसा होना चाहिए अनलॉक 1 की प्रक्रिया?

बता दें कि राज्य में 22 अप्रैल को लॉकडाउन (स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह) की घोषणा की गई थी।

इसके तहत आवश्यक सेवाओं को छोड़कर सख्ती बरती गई थी।

पहले यह 29 मई तक लागू किया गया था। इसके बाद इसमें अलग-अलग बदलाव के साथ 3 जून तक बढ़ाया गया था।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button