भारत

मुख्तार अंसारी की मौत के बाद से बांदा जेल के कैदियों में खौफ, जेल के खाने से परहेज कर रहे हैं कैदी

जेल में अफसरों व पुलिस की आवाजाही से जेल के क़ैदी (Prisoners) खौफ में है साथ ही सुबह-शाम जेल में पुलिस के फ्लैग मार्च (Flag March) व सख्ती से काफी परेशान भी हैं।

Banda jail prisoners in Fear : माफिया मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) की मौत और वरिष्ठ जेल अधीक्षक को जान से मारने की धमकी (Threat) मिलने के बाद से ही बांदा जेल (Banda Jail) हाई अलर्ट पर है।

जेल में अफसरों व पुलिस की आवाजाही से जेल के क़ैदी (Prisoners) खौफ में है साथ ही सुबह-शाम जेल में पुलिस के फ्लैग मार्च (Flag March) व सख्ती से काफी परेशान भी हैं।

कैदियों को आपस में बात करने की भी इजाजत नहीं

पेशी पर अदालत आए कैदीयों ने बताया कि जेल में सुबह शाम पुलिस का फ्लैग मार्च हो रहा है।

कैदीयों को बैरिक से कहीं जाने भी नहीं दिया जा रहा है।

यहां तक कि एक कैदी को दूसरे कैदी से बात करने की भी इजाजत नहीं है। दिन भर अधिकारियों व पुलिस की आवाजाही से कैदीयों में खौफ (Fear) है।

जेल के खाने से परहेज कर रहे हैं कैदी

एक बंदी ने कहा कि मुख्तार को जेल में खाने में जहर (Poison) देने के आरोप से कई बड़े बंदी खाना खाने से परहेज कर रहे हैं।

कच्चे टमाटर (Tomato) में नमक डालकर रोटियां खा रहे हैं।

यहां तक की खौफ के कारण तमाम बंदी न हंसते हैं और न ही टीवी आदि देख रहे है। अखबार पढ़ने भी नहीं जाते हैं। जेल में एकाएक ऐसी शांति छा गई है मानों कोई है ही नहीं।

उधर, वरिष्ठ जेल अधीक्षक वीरेश राज का कहना है कि जेल में सब कुछ सामान्य है। खौफ जैसा कुछ भी नहीं है।

ढाई साल से बांदा जेल में कैद थे मुख्तार अंसारी

बताते चलें करीब ढाई साल से बांदा जेल में बंद पूरब के माफिया मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) की गुरुवार देर रात हार्ट अटैक (कार्डिया अरेस्ट) से मौत हो गई।

मुख्तार को मौत से करीब तीन घंटे पहले ही इलाज के लिए मंडलीय कारागार से मेडिकल कॉलेज लाया गया था।

जहां नौ डॉक्टरों की टीम उसके इलाज में जुटी थी। रात करीब साढ़े दस प्रशासन ने मुख्तार की मौत की सूचना सार्वजनिक की। तब तक मुख्तार के परिवार का कोई सदस्य मेडिकल कॉलेज नहीं पहुंचा था।

गुरुवार शाम करीब साढ़े छह बजे मुख्तार की जेल में तबीयत बिगड़ी थी।

इसके बाद प्रशासन के अधिकारी मौके पर पहुंचे और करीब साढ़े आठ बजे के आसपास उसे मेडिकल कॉलेज लाया गया था।

जहां दो घंटे तक उसका इलाज चला। उसे ICU से CCU में शिफ्ट किया गया। जहां रात 10:30 बजे के आसपास उसकी मौत हो गई। परिवार ने जहर देने का आरोप लगाया है।

Back to top button
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker