झारखंड

झारखंड समेत 14 राज्यों के 91 ठिकानों पर एक साथ हुई CBI की छापेमारी

बोकारो: विदेश (Foreign) से मेडिकल में स्नातक (Medical Graduate) के फर्जी प्रमाण पत्र (Fake Certificate) के आधार पर राज्यों के मेडिकल काउंसिल (Medical Council) से इलाज (Medical Practice) के लिए पंजीयन (Registration) कराने के मामले में CBI दिल्ली की टीम ने झारखंड समेत 14 राज्यों के 91 ठिकानों पर गुरुवार को एक साथ छापेमारी (Raid) की।

झारखंड में यह छापेमारी बोकारो में हुई है। बोकारो में चास के जोधाडीह मोड़ निवासी शिवशक्ति कालोनी निवासी मुकेश कुमार के ठिकाने से CBI की टीम ने छानबीन (Investigation) में कई महत्वपूर्ण दस्तावेज जब्त किए हैं।

मुकेश कुमार ने वर्ष 2015 में रूस (यू) से MBBS करने का दावा किया है। फाइनल परीक्षा में उन्हें असफल घोषित किया गया था। उन्होंने मेडिकल प्रैक्टिस (Medical Practice) के लिए बिहार मेडिकल काउंसिल से 27 अक्टूबर 2015 को पंजीयन संख्या 43702 से रजिस्ट्रेशन भी करवा लिया था, जिसे राष्ट्रीय परीक्षा बोर्ड (NBE) ने पकड़ा और फिर दर्ज प्राथमिकी (FIR) में आरोपित बनाया है।

बताया जा रहा है कि CBI ने जिन अन्य 90 ठिकानों पर छापेमारी की है, उनमें दिल्ली, चंडीगढ़, अमृतसर, गुरदासपुर, भटिंडा, खन्ना, करनाल, सवाईमाधोपुर, नरवाना, हमीरपुर, शिमला, जम्मू, श्रीनगर, देहरादून, गाजियाबाद, गुवाहाटी, तेजपुर, इंफाल, सिक्किम, राजपुर, पटना, मुंगेर, मुंबई, जयपुर, सीकर, विजयवाड़ा, वारंगल, तिरुनेलवेली, मदुरै, भोपाल, नागपुर, बुलढाणा, पुणे, जलगाँव, धरभंगा, भागलपुर, चंपारण, बेगूसराय, विजाग, हाजीपुर, वैशाली, नालंदा से जुड़े ठिकाने शामिल हैं। ये ठिकाने 14 राज्यों व नेशनल मेडिकल काउंसिल दिल्ली के अलावा असम, बिहार, महाराष्ट्र, पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, जम्मू-कश्मीर, दिल्ली, आंध्र प्रदेश व तेलंगाना के राज्य मेडिकल काउंसिल के संदिग्ध लोकसेवकों व 73 विदेशी मेडिकल स्नातक (Foreign Medical Graduate) से जुड़े ठिकाने हैं।

स्वास्थ्य मंत्रालय की शिकायत पर उइक ने दर्ज किया था केस

भारत सरकार की स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की शिकायत पर CBI की दिल्ली स्थित एंटी क्राइम (Anti Crime)-1 थाने में 21 दिसंबर को प्राथमिकी दर्ज (FIR) हुई थी।

मंत्रालय ने अपनी शिकायत में बताया था कि विदेश से मेडिकल स्नातक को भारत में स्क्रीनिंग जांच पास करने के बाद ही नेशनल मेडिकल कमीशन या स्टेट मेडिकल काउंसिल (State Medical Council) से रजिस्ट्रेशन संभव है।

यह स्क्रीनिंग जांच परीक्षा राष्ट्रीय परीक्षा बोर्ड (NBE) के माध्यम से होती है। NBE ने ही गत 12 सितंबर व 17 अक्टूबर को स्वास्थ्य मंत्रालय से अनुशंसा की थी कि 73 ऐसे Foreign Medical Graduate हैं, जो भारत में स्क्रीनिंग टेस्ट पास नहीं किए और उनका विभिन्न राज्यों में प्रैक्टिस के लिए पंजीयन भी हो गया।

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker