हेमंत के बेहद खास और उनके मीडिया सलाहकार रहे अभिषेक पिंटू के बयान से बढ़ सकती हैं मुश्किलें!, यहां जानें

News Aroma Desk

Badagai 8.86 Acres Land Acam Case : बिरसा मुंडा केंद्रीय कारा (Birsa Munda Central Jail) में बंद पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren) की मुश्किलें जमीन घोटाले में बढ़ सकती हैं।

राजधानी के बड़गाईं स्थित 8.86 एकड़ जमीन के स्कैम (Land Scams) मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ED) की ओर से दायर Charge Sheet के तथ्यों से इस बात की ओर संकेत मिलते हैं।

हेमंत के बेहद खास और उनके मीडिया सलाहकार रहे अभिषेक पिंटू के बयान का हवाला देते हुए कोर्ट को ED ने बताया है कि उन्होंने हेमंत सोरेन के कहने पर संबंधित जमीन का वेरिफिकेशन CMO में सेवारत उदय शंकर नामक कर्मचारी से करवाया था।

ED का दावा है कि संबंधित जमीन को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन लगातार टाल मटोल वाला रवैया अपनाते रहे वह एक ही बात कहते रहे कि इस जमीन उनका कोई लेना-देना नहीं है।

पिंटू ने हेमंत और उनके परिवार से जुड़ी दो और प्रॉपर्टी का…

चार्जशीट के तथ्यों से यह भी पता चलता है कि पिंटू ने हेमंत और उनके परिवार से जुड़ी दो और प्रॉपर्टी का वेरिफिकेशन उदय शंकर से करवाया था। इसको लेकर पिंटू और उदय शंकर के बीच 22 अक्टूबर 2022 को व्हाट्सएप पर चैटिंग भी हुई थी।

बड़गाईं के CO मनोज कुमार ने भी ED को दिए स्टेटमेंट में स्वीकार किया है कि उन्हें जानकारी थी कि 8.86 एकड़ जमीन हेमंत सोरेन की है।

मनोज कुमार ने स्वीकार किया है कि CMO से उदय शंकर का फोन आने के बाद ही उन्होंने राजस्व कर्मचारी भानु प्रताप को संबंधित प्लॉट का सर्वेक्षण कर रिपोर्ट देने को कहा था।

ED के मुताबिक इस मामले से जुड़े आरोपी विनोद सिंह की हेमंत सोरेन के साथ कई प्रॉपर्टी को लेकर Whatsapp Chatting हुई है। हेमंत सोरेन इसको लेकर झूठ बोलते रहे और उन्होंने इससे संबंधित कागज पर हस्ताक्षर नहीं किया।

प्रवर्तन निदेशालय ने इस बात पर भी आश्चर्य जताया है कि रांची के SAR कोर्ट में साल 2023-24 में कुल 103 मामले रजिस्टर्ड हुए थे लेकिन 1 साल में सिर्फ चार मामलों का ही निष्पादन हुआ है, जिसमें बड़गाईं वाली जमीन का भी मामला था।

हमें Follow करें!

x