झारखंड

बोकारो सदर अस्पताल की हालत खस्ता, मरीजों के लिए जरूरी दवाएं भी…

अधिकतर भर्ती मरीजों को जरूरी दवाएं (Medicines) बाजार से लानी पड़ रही हैं। बड़ी बीमारी में जरूरी दवाएं उपलब्ध नहीं होने से इसका खामियाजाआर्थिक रूप से कमजोर लोगों को उठाना पड़ रहा है।

Bokaro Sadar Hospital : हर जिले में गरीब मरीजों का सहारा सरकारी सदर अस्पताल (Sadar Hospital) ही होता है। वर्तमान में बोकारो सदर अस्पताल (Bokaro Sadar Hospital) की हालत खस्ता बताई जा रही है।

यहां भर्ती मरीजों (Patient) के लिए नियमित रूप से जरूरी दवाएं भी उपलब्ध  नहीं हो पा रही ह।

अधिकतर भर्ती मरीजों को जरूरी दवाएं (Medicines) बाजार से लानी पड़ रही हैं। बड़ी बीमारी में जरूरी दवाएं उपलब्ध नहीं होने से इसका खामियाजाआर्थिक रूप से कमजोर लोगों को उठाना पड़ रहा है।

वार्ड में भर्ती कई मरीजों का कहना है कि यहां इलाज की सुविधाएं उपलब्ध हैं, पर जरूरी दवाएं नहीं मिल पाती हैं।

अस्पताल में मौजूद चिकित्सक (Doctor) ने कहा कि जांच के बाद कुछ जरूरी दवाएं बाहर से लाने के लिए लिखना पड़ता है। जो दवाएं सरकार की सूची में हैं, यहां उपलब्ध हैं।

सेक्टर 9 के धनश्याम कुमार ने बताया कि मेरी पत्नी तीन दिन से भर्ती है।

अब तक 400 रुपये की दवा बाहर से खरीद चुके हैं। दूसरे मरीज के परिजन जयप्रकाश ने बताया कि कुछ दवाएं अस्पताल से मिलती हैं।

कुछ दवाएं डॉक्टर बाहर से खरीदकर लाने को कहते हैं। सेक्टर वन के परिजन ने कहा कि मरीज को जॉडिश है। अधिकतर दवाएं बाहर से खरीदनी पड़ रही हैं।

x