इस गति से होता रहा कोरोना टीकाकरण, तब सौ प्रतिशत टीकाकरण में 18 साल लग सकते हैं

नई दिल्ली: केंद्र सरकार जहां देश में जोर-शोर से कोविड-19 टीकाकरण अभियान चलाने का दावा कर रही है, वहीं कांग्रेस ने इसपर सवाल उठाकर मंगलवार को दावा किया कि अभी तक सिर्फ 0.35 प्रतिशत आबादी को ही कोविड-19 टीके की दूसरी खुराक दी गई है।

राज्यसभा में शून्यकाल के दौरान यह मुद्दा उठाकर कांग्रेस के शक्ति सिंह गोहिल ने कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों पर चिंता जाहिर कर कहा कि फिलहाल देश में जिस रफ्तार से टीकाकरण अभियान चल रहा है, उसकी यही रफ्तार रहने पर सौ फीसदी टीकाकरण में 18 साल लग जाएंगे।

उन्होंने कहा, हम सब खुश थे कि कोरोना का ग्राफ नीचे आ रहा है लेकिन कुछ दिनों से बड़ी चिंता हो रही है।

क्योंकि एक ही दिन में कोरोना संक्रमण के करीब 25 हजार मामले बढ़ रहे हैं।’’ गोहिल ने दूसरे देशों को कोविड-19 टीका भेजने संबंधी दिल्ली उच्च न्यायालय के फैसले का उल्लेख करते हुए केंद्र सरकार से टीकाकरण अभियान की रफ्तार बढ़ाने की मांग की।

उन्होंने कहा, अभी तक जो टीकाकरण हो रहा है और जिन्हें दूसरी खुराक मिली है, उनका आंकड़ा दो दिन पहले तक 0.35 प्रतिशत ही है।

अगर इसी रफ्तार से हम चले तब 70 प्रतिशत आबादी के टीकाकरण में 12 साल छह महीने लग सकते है। सौ प्रतिशत करने के लिए 18 साल लग सकता है।

उन्होंने कहा, मैं सरकार से आग्रह करता हूं, कि टीकाकरण की रफ्तार बढ़ाकर जल्द से जल्द सभी को टीका मिले, इसकी व्यवस्था हो।

ज्ञात हो कि गृह मामलों की संसद की स्थायी समिति ने भी हाल ही में देश में टीकाकरण की धीमी गति पर चिंता जाहिर कर कहा था कि इस दर से पूरी आबादी का टीकाकरण करने में कई वर्ष लग जाएंगे।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, भारत में सोमवार को एक दिन में अब तक सबसे अधिक करीब 30 लाख लोगों को कोविड-19 टीके लगाए गए। इसके साथ ही देश में लगाए जा चुके टीकों की कुल संख्या 3,29,47,432 हो गई है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button