गैस सिलेंडर की कीमत में फिर हुई वृद्धि, जानें झारखंड में अब कितनी चुकानी होगी कीमत

रांची: रांची के उपभोक्ताओं को खाना बनाने के लिए गैस सिलेंडर खरीदने के अब प्रति सिलेंडर 892 रुपए खर्च करने होंगे। जी हां गैस सिलेंडर फिर 25.5 रुपये महंगा हो गया है।

हजारीबाग में घरेलू प्रयोग के सिलेंडर की नई कीमत अन्य जगह से दो रुपये ज्यादा 894 रुपए होगी।

इसके अलावा बोकारो, देवघर, धनबाद, गिरिडीह और डालटनगंज में 14.3 किग्रा के सिलेंडर की कीमत 892 रुपये है।

वहीं, 19 किग्रा के व्यवासायिक सिलेंडर की कीमत राज्यभर में एक समान 1674 रुपये है। रांची में इसकी कीमत अन्य जगह की तुलना में एक रुपये ज्यादा है।

बता दें कि घरेलू प्रयोग वाले गैस सिलेंडर की कीमत में मार्च में वृद्धि हुई थी। उस समय इसकी कीमत बढ़कर 866.50 रुपए हुई थी।

तीन माह बाद तेल कंपनियों की ओर से कीमत में फिर से बढ़ोतरी की गई है।

वहीं, व्यावसायिक प्रयोग के एलपीजी सिलेंडर की कीमत अब 1675 रुपये हो गई है। इसकी कीमत पिछले माह 1592 रुपये थी। व्यावसायिक सिलेंडर में 86 रुपये की बढ़ोतरी हुई है।

इस साल 140 रुपये बढ़ चुकी हैं कीमतें 

2021 में घरेलू गैस की कीमत में बड़ी बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है। जुलाई में 25.5 रुपये की बढ़ोत्तरी के बाद अब तक कीमतों में 140.5 रुपये का इजाफा हो चुका है।

जनवरी में इसकी कीमत में कोई बदलाव नहीं हुआ। लेकिन 4 फरवरी को कीमत में 694 रुपए से 25 रुपए बढ़कर यह 719 रुपए का हो गया।

 उसके बाद 15 फरवरी को कीमत में 50 रुपए की तेजी आई और यह 769 रुपए का हो गया। फिर 25 फरवरी को 25 रुपए के उछाल के साथ यह 794 रुपए का हो गया। 1 मार्च को इसकी कीमत में फिर 25 रुपए की तेजी आई और यह 819 रुपए का हो गया। अप्रैल में कीमत में 10 रुपए की गिरावट आई और यह 809 रुपए का हुआ।

बता दें कि जून महीने में गैस कंपनियों ने कमर्शियल यूज में आने वाले 19 किलोग्राम वाले गैस सिलिंडर की कीमत में 122 रुपये की भारी कटौती कर दी थी।

हालांकि 14.2 किग्रा वाले घरेलू गैस सिलेंडर की कीमतों में कोई बदलाव नहीं हुआ था। इससे पहले 1 मई को गैस कंपनियों ने कमर्शियल यूज में आने वाले 19 किलोग्राम वाले गैस सिलिंडर की कीमत में 45.50 रुपए की कटौती कर दी थी।

तब इसके भाव 1641 रुपये से घटकर 1595.5 रुपये पर आ गए थे। वहीं रसोई गैस की बात करें तो अप्रैल की शुरुआत में घरेलू रसोई गैस 10 रुपये सस्ती हुई थी।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button